गोरखपुर, जेएनएन। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को पिपराइच चीनी मिल का लोकार्पण और दूसरे पेराई सत्र का शुभारंभ करेंगे। इस दौरान गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा, चीनी उद्योग राज्यमंत्री सुरेश पासी और सांसद रवि किशन भी मौजूद रहेंगे। 423 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित मिल का औपचारिक लोकार्पण बीते वर्ष लोकसभा चुनाव की अधिसूचना के चलते नहीं हो पाया था, जबकि पेराई शुरू हो गई थी।

बैठक भी कर सकते हैं सीएम

मुख्यमंत्री सुबह वैदिक मंत्रोच्‍चार के बीच मिल का लोकार्पण और पेराई सत्र की शुरुआत करेंगे। इसके बाद जनसभा को संबोधित करेंगे। दोपहर में मुख्यमंत्री गोरखनाथ मंदिर लौट आएंगे। इससे पहले रविवार की सुबह गोरखनाथ मंदिर में मुख्यमंत्री का जनता दर्शन कार्यक्रम होगा। लखनऊ रवाना होने से पहले मंदिर कार्यालय में मुख्यमंत्री गोरखपुर महोत्सव और खिचड़ी मेले की तैयारियों को लेकर प्रशासनिक बैठक भी ले सकते हैं।

1932 में हुई थी मिल की स्थापना

कोलकाता के सेठ सोहन लाल रामरायका ने पिपराइच में 32 एकड़ भूमि लेकर डायमंड सुगर मिल की स्थापना कराई। 1971 में सरकार ने मिल का अधिग्रहण कर लिया। इसके बाद मिल के दुर्दिन शुरू हो गए। 1991-92 में नई चीनी मिल की स्थापना के लिए रिठियां गांव के किसानों से 51 एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया गया, लेकिन मिल स्थापित नहीं हुई।

14 मई 2008 को डायमंड सुगर मिल में तालाबंदी की घोषणा हो गई। इससे पहले वर्ष 2003 में एक साल के लिए मिल बंद रही। तब तत्कालीन सांसद अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धरना दिया था। इसके बाद मिल चली थी।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस