गोरखपुर, जागरण संवाददाता। जमीन विवाद के मामलों को अधिकारी गंभीरता से लें। उनका जल्द से जल्द निस्तारण सुनिश्चित करें। ऐसे दबंगों को चिन्हित करें, जिन पर लोगों की जमीन कब्जा करने का आरोप लग रहा है। मामले की जांच करें, दोषी पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को यह निर्देश तब दिया, जब वह गोरखनाथ मंदिर के दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार में जनता दर्शन के दौरान लोगों की समस्या सुन रहे थे। जनता दर्शन में जमीन से जुड़े मामलों के निस्तारण को लेकर पुलिस-प्रशासन की शिथिल रवैये पर नाराजगी भी जाहिर कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने सुनी करीब 700 लोगों की समस्या

दो दिन के दौरे पर रविवार को गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार की सुबह गोरखनाथ मंदिर में नियमित पूजा-अर्चना के बाद जनता दर्शन किया। इस दौरान उन्होंने दूर-दराज से आए करीब 700 लोगों की समस्या सुनी। समस्या सुनने के लिए वह एक-एक व्यक्ति के पास खुद गए। उनका मांग-पत्र लिया और समस्या निस्तारण का आश्वासन दिया। इस दौरान वह हर समस्या के निस्तारण को लेकर अधिकारियों को निर्देशित करते रहे।करीब एक दर्जन लोग इलाज के लिए आर्थिक मदद की उम्मीद लेकर आए थे, ऐसे सभी लोगों से मुख्यमंत्री ने कहा कि वह कागजी प्रक्रिया पूरी करें।धन के अभाव के किसी का इलाज नहीं रुकेगा। इस बाबत उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वह इलाज की कागजी प्रक्रिया जल्द से जल्द पूरी करने में लोगों की मदद करें।

प्रदेश के विभिन्न जिलों से समस्या लेकर पहुंचे लोग

मुख्यमंत्री से सीधे मिलकर अपनी समस्या कहने के लिए प्रदेश के विभिन्न जिलों से लोग आए हुए थे। मुलाकात के बाद के वह समस्या निस्तारण के लिए आश्वस्त दिखे। इससे पहले मुख्यमंत्री की सुबह की दिनचर्या हमेशा की तरह आध्यात्मिक रही। सबसे पहले उन्होंने बाबा गोरखनाथ के दरबार में हाजिरी लगाई और उसके बाद अपने गुरु महंत अवेद्यनाथ के समाधि पर जाकर उनका आशीर्वाद लिया। मंदिर परिसर का भ्रमण करने के क्रम में वह गोशाला गए और करीब आधा घंटा गोसेवा की। जनता दर्शन में उनके साथ एडीजी पुलिस अखिल कुमार, कमिश्नर रवि कुमार एनजी, जिलाधिकारी कृष्णा करुणेश, एसएसपी गौरव ग्रोवर, अजय सिंह आदि मौजूद रहे।

दबंगों ने कब्जा कर लिया खेत

चौरीचौरा इलाके के सरदारनगर बसडिला की रहने वाली आशा शुक्ला जमीन विवाद की समस्या लेकर जनता दर्शन में पहुंचीं। उनका कहना था कि उनके खेत और जमीन पर दबंगों ने कब्जा कर लिया है। कई बार प्रशासन से गुहार लगा चुकी, लेकिन कोई मदद नहीं मिली।

देवर व ससुर पर लगाया दुष्कर्म व छेड़खानी का आरोप

जनता दर्शन में पहुंची एक महिला ने मुख्यमंत्री को प्रार्थना-पत्र देकर बताया कि उसके ससुर दारोगा है। वह हमेशा उसके साथ छेड़खानी करते हैं। मना करने पर गाली-गलौच करने लगते हैं। उस महिला ने देवर पर दुष्कर्म का भी आरोप लगाया। उसने बताया कि कैंट पुलिस ने उसकी तहरीर पर छेड़खानी का केस तो दर्ज कर लिया लेकिन दुष्कर्म की धारा बढ़ाने के लिए 20 हजार रुपये मांगे। रुपया लेने के बाद भी दुष्कर्म की धारा तो नहीं बढ़ाई, उल्टा छेड़खानी की धारा भी हटा दी।

Edited By: Pragati Chand

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट