गोरखपुर, जागरण संवाददाता। CM Yogi Adityanath Janta Darshan in Gorakhpur: हर व्यक्ति अपनी समस्या लेकर जनता दर्शन में पहुंच रहा। इसका सीधा मतलब है कि उसे स्थानीय स्तर पर न्याय नहीं मिल रहा। आखिर अफसर कर क्या रहे हैं? यह कतई ठीक नहीं है। बुधवार की सुबह गोरखनाथ मंदिर के दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार में जनता दर्शन के दौरान समस्याग्रस्त लोगों की बड़ी संख्या देखकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह सवाल वहां मौजूद आला अफसरों से किया। उन्होंने निर्देश दिया कि जनता की समस्या को लेकर लापरवाह व गैर जिम्मेदार अफसरों और कर्मचारियों को चिन्हित करें और उनके खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करें।

सीएम ने सुनीं सात सौ लोगों की समस्याएं

बुधवार को मुख्यमंत्री ने करीब 700 लोगों की समस्या सुनी। बतौर गोरक्षपीठाधीश्वर नवरात्र और विजयदशमी का परंपरागत अनुष्ठान सम्पन्न करने के बाद योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी को लेकर बुधवार को सुबह से सक्रिय दिखे। सुबह की परंपरागत पूजा सम्पन्न करने और गोशाला में कुछ समय गुजारने के बाद मुख्यमंत्री तत्काल परिसर के दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार परिसर पहुंच गए। वहां दूर-दराज से आए करीब 350 लोग अपनी समस्या सीधे कहने के लिए उनका इंतजार कर रहे थे। मुख्यमंत्री एक-एक कर सबके पास गए और समस्या सुनने के साथ उससे जुड़ा आवेदन पत्र भी लिया। जब वहां मौजूद सभी की समस्या उन्होंने सुन ली तो मंदिर प्रबंधन के लोगों ने उन्हें बताया कि 200 से अधिक लोग अभी भी बाहर खड़े होकर समस्या बताने के लिए अपनी बारी इंतजार कर रहे हैं।

भूमि विवाद के हैं अधिकांश मामले

यह जानकारी पाकर मुख्यमंत्री ने उन्हें भी बुलाने का निर्देश दिया और बारी-बारी से उनकी समस्या भी सुनी। ज्यादातर मामले भूमि विवाद और पुलिस के थे, जिसका निस्तारण को लेकर मुख्यमंत्री कई बार अधिकारियों को नसीहत देते दिखे। कुछ लोग आर्थिक तंगी का हवाला देकर इलाज के लिए धन की मांग लेकर आए थे। ऐसे सभी लोगों को मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया कि वह कागजी औपचारिकता पूरी करे, धन के अभाव में कोई भी व्यक्ति इलाज से वंचित नहीं रहेगा। औपचारिकता पूरी करने के लिए उन्होंने अफसरों से कहा कि वह इसमें जरूरतमंदों की मदद करें।

लालकक्ष में भी 100 लोगों से मिले योगी

दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार में लोगों की समस्या सुनने के बाद मुख्यमंत्री जब मंदिर कार्यालय की ओर लौटे तो वहां भी उनसे मिलने का करीब 100 लोग इंतजार कर रहे थे। योगी ने उन्हें भी निराश नहीं किया। लालकक्ष में उनसे भी मुलाकात की। उनमें कुछ लोग केवल आशीर्वाद के लिए आए थे तो कुछ अपनी समस्या बताने। इससे पहले लाल कक्ष के बाहर उन्होंने कुछ समय अपने श्वान कालू व गुल्लू के साथ भी गुजारा।

Edited By: Pradeep Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट