गोरखपुर (जेएनएन)। सस्ते घर के जरूरतमंदों के लिए खुशखबरी है। स्ट्रक्चर इको प्राइवेट लिमिटेड की संस्थापक श्रिति पांडेय ने चेक रिपब्लिक की कंपनी इको पैनली के साथ मिलकर कंप्रेस्ड फाइवर पैनल बोर्ड की मदद से अत्यंत सस्ते मकान बनाने का प्रोजेक्ट शुरू किया है। अब उम्मीद की जा सकती है कि हर जरूरतमंद के पास अपना मकान हो सकता है। एमजी इंटर कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुरेंद्र दुबे ने इसके पायलट प्रोजेक्ट का शुभारंभ किया।
उन्होंने कहा कि मनुष्य के जीवन में अपना घर होने का सपना रहता है। किसी किसी को अपने जीवन में अपना घर नसीब नहीं होता। उन्होंने कहा कि इस नई तकनीक से गरीबों को कम कीमत पर आवास तो मिलेगा ही, किसानों की आय भी बढ़ सकेगी। गेहूं के डंठल और धान के पुआल से घर बनाने की तकनीक फायदेमंद होगी। उन्होंने श्रिति को इस नवाचार के लिए बधाई दी। भवन का अनावरण सरोज श्रीवास्तव ने किया। इस प्रोजेक्ट को उत्तर प्रदेश सरकार ने स्टार्ट अप योजना के अंतर्गत लिया है।
किसानों, बेरोजगारों को मिलगा लाभ
श्रिति ने कहा कि चेक रिपब्लिक की कंपनी के साथ संयुक्त उपक्रम गोरखपुर में स्थापित करने से आसपास के किसानों तथा बेरोजगारों को लाभ मिलेगा। इस अवसर पर नेशनल एजुकेशनल सोसाइटी के अध्यक्ष प्रेमनारायण श्रीवास्तव, महात्मा गांधी पीजी कॉलेज तथा पीजी कॉलेज के प्रबंध समिति के अध्यक्ष किशुनजी श्रीवास्तव, इको पैनली के निदेशक डालीबोर रोयेक, सीईओ जुआन बेयर्स, अशोक जे प्रसाद, महावीर प्रसाद कंडोई, एचआर जायसवाल, अशोक कमानी, अरशद समानी, संदीप कक्कड़, अनुपम जैन, स्ट्रक्चर इको की निदेशक पूर्वी नरायण पांडेय, विरल जैन, एमजीपीजी कालेज के प्राचार्य डॉ. शैलेंद्र श्रीवास्तव उपस्थित रहे। एमजी इंटर कालेज के प्रबंधक मंकेश्वर नाथ पांडेय ने अतिथियों के प्रति आभार जताया।