गोरखपुर, जेएनएन। प्रदेश सरकार के पूर्व सचिव दिनेश सिंह, बेटे रितेश सिंह व पत्नी सहित चार के विरुद्ध महिला थाने में दहेज के लिए उत्पीडऩ करने तथा अमानत में खयानत के आरोप में मुकदमा दर्ज हुआ है। उनकी बहू के भाई ने कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री को प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई थी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर जांच के बाद मुकदमा दर्ज किया गया है।

शादी के बाद से ही हो रहा था उत्‍पीड़न

शाहपुर क्षेत्र के मैत्रीपुरम कालोनी मेें कामोद सिंह पुत्र स्व.घनश्याम सिंह परिवार के साथ रहते हैं। कामोद, पूर्व मंत्री के भतीजे हैं। उनकी बहन रश्मि सिंह की शादी कैंट क्षेत्र के दिव्यनगर कालोनी निवासी पूर्व सचिव दिनेश सिंह के पुत्र रितेश सिंह से 11 दिसंबर 2017 को हुई थी। कामोद के मुताबिक शादी के समय ससुराल वालों को 15 लाख रुपये नकद तथा विदाई में बहन को 30 लाख से अधिक के जेवर दिए गए थे। आरोप है कि शादी के दूसरे दिन से ही ससुराल के लोग रश्मि पर मायके से दहेज में 25 लाख रुपये और मांगने का दबाव बनाने लगे। इन्कार पर उन्होंने रश्मि का उत्पीडऩ शुरू कर दिया।

पंचायत के बाद भी ससुराली नहीं माने

रश्मि ने 22 दिसंबर 2018 को बेटे को जन्म दिया। इसके बाद भी उत्पीडऩ जारी रहा। कई बार पंचायत हुई, लेकिन ससुराल वाले मांग पर अड़े रहे। अंतत: रश्मि के गहने व अन्य सामान छीनकर उसे घर से निकाल दिया।

अवसाद में आए पिता ने कर ली खुदकशी

कामोद के मुताबिक ससुराल में रश्मि का उत्पीडऩ और ससुराल वालों के दहेज के लिए बार-बार फोन से उनके पिता घनश्याम सिंह अवसाद में आ गए थे। 26 जुलाई को उन्होंने खुदकशी कर ली थी। तहरीर में पिता की मौत के लिए उन्होंने बहन के ससुराल वालों को जिम्मेदार ठहराया है।

जांच के बाद होगी कार्रवाई

एसएसपी डा. सुनील गुप्‍त के अनुसार तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है। जांच के आधार पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। 

Posted By: Satish Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप