गोरखपुर, जेएनएन। बस्ती जिले में धान खरीद में लापरवाही पीसीएफ क्रय केंद्र के एक प्रभारी पर भारी पड़ गई। साथ में पीएसएफ प्रबंधक भी बुरे फंस गए है। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन बुधवार को अचानक धान खरीद का जायजा लेने निकल पड़े।

वह सबसे पहले साऊंघाट ब्लाक में क्रय केंद्र बनाए गए साधन सहकारी समिति बायपोखर पहुंचे। यहां अनियमितता मिलने पर डीएम भड़क उठे। केंद्र प्रभारी अजय कुमार वर्मा पर तत्काल मुकदमा दर्ज कराकर जेल भेजने का निर्देश दिया। पीसीएफ के जिला प्रबंधक के खिलाफ कार्रवाई के लिए संस्तुति करने को कहा। इस क्रय केंद्र पर 26 दिनों में केवल 11 एवं 12 नवंबर को किसानों से साढ़े तीन क्विंटल धान की खरीद हुई है। सभी रजिस्टर खाली पाए गए। किसानों के भुगतान का विवरण भी दर्ज नहीं मिला।

केंद्र प्रभारी स्टाक रजिस्टर तक नहीं दिखा पाए। नमी मापक यंत्र भी यहां चालू हालत में नहीं मिला। बदइंतजामी से नाराज डीएम ने डिप्टी आरएमओ को निर्देश दिया कि पीसीएफ के सभी क्रय केंद्रों का निरीक्षण कराया जाए। डीएम देवरिया माफी धान क्रय केंद्र पहुंच गए। यहां खरीद शून्य पाई गई। केंद्र प्रभारी अनिल वर्मा ने बताया कि मंडी समिति से अभी एक दिन पहले लाइसेंस प्राप्त हुआ है।

इस पर डीएम पीसीएफ प्रबंधक पर भी नाराज हुए। उनके विरुद्ध कार्रवाई की संस्तुति कर शासन को रिपोर्ट भेजने को कहा। बताया गया कि पीसीएफ के जिले में 51 क्रय केंद्र हैं। खरीद महज 1400 एमटी की हुई है। जिलाधिकारी ने कहा है कि केंद्रों के निरीक्षण के क्रम में लापरवाही मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। एडीएम रमेश चंद्र, डिप्टी आरएमओ गोरखनाथ तिवारी मौजूद रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस