गोरखपुर, जेएनएन। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में 20 दिसंबर को पुलिस पर पथराव और उपद्रव करने वालों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। सीसीटीवी फुटेज से पुलिस ने 60 और पत्थरबाजों का फोटो निकलवाया है। उनका पोस्टर तैयार कराया जा रहा है। इससे पहले भी पुलिस 60 पत्थरबाजों का पोस्टर जारी कर चुकी है। उनमें से पांच को जेल भेजा जा चुका है।

सीसीटीवी बनी पुलिस की मददगार

20 दिसंबर को जुमे की नमाज के बाद काली पट्टी बांधे उपद्रवियों के समूह ने उपद्रव शुरू कर दिया था। इस दौरान मदीना मस्जिद चौराहा और नखास चौराहे पर उग्र भीड़ ने मारपीट की और पुलिस पर जमकर पथराव किया। बवाल पर काबू पाने के बाद पुलिस ने दुकानों और घरों के बाहर लगे सीसी टीवी कैमरों की फुटेज से 60 पत्थरबाजों का फोटो निकलवाकर दूसरे दिन पोस्टर जारी किया था।

सीसी टीवी फुटेज से 60 और पत्थरबाजों की फोटो निकलवाई गई है। उनका पोस्टर तैयार कराया जा रहा है। बहुत जल्दी दूसरा पोस्टर भी जारी किया जाएगा। - वीसी सिंह, सीओ कोतवाली

कड़े सुरक्षा प्रबंधों के बीच अदा की जाएगी जुमे की नमाज

पिछले जुमे की ही तरह इस जुमे को भी कड़े सुरक्षा प्रबंधों के बीच नमाज अदा की जाएगी। खासकर नमाज से पहले और बाद में अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। उपद्रव प्रभावित इलाके में शुक्रवार को शांति बनाए रखने के लिए पैरा मिलीट्री फोर्स आइटीबीपी (भारत-तिब्बत सीमा पुलिस) के जवान तैनात रहेंगे। एसएसपी ने इन जवानों को गुरुवार को पुलिस लाइंस में सुरक्षा ड्यूटी में तैनात रहने के दौरान उनकी जिम्मेदारी के बारे में बताया और धारा 144 लागू होने का हवाला देकर कहीं भी पांच या पांच से अधिक लोगों को एकत्र न होने देने का निर्देश दिया।

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में 20 दिसंबर को जुमे की नमाज के बाद कोतवाली इलाके में हिंसा भड़क गई थी। इस पर काबू पाने में पुलिस को खासी मशक्कत उठानी पड़ी थी। इस बवाल से सबक लेकर दूसरे 27 दिसंबर को उपद्रव प्रभावित इलाके में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। खासकर दोपहर की नमाज से पहले और बाद में। परिणामस्वरूप 27 दिसंबर को हर जगह शांति बनी रही।

इस जुमे (शुक्रवार) को बवाल होने की खुफिया एजेंसियों के आशंका जताने के बाद नमाज अदा होने से पहले और बाद में सुरक्षा के कड़े इंतजाम करने का फैसला लिया गया है। अधिकारी इसकी तैयारी में जोर-शोर से लग गए हैं। खिचड़ी मेले की सुरक्षा में लगाए जाने के लिए बुलाए गए आइटीबीपी के जवानों को इस दिन उपद्रव प्रभावित इलाके में तैनात करने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा कोतवाली सर्किल के तीनों थाना क्षेत्रों में स्थित 167 मस्जिदों के आसपास पुलिस व पीएसी के जवान तैनात रहेंगे। अमन-चैन कायम रखने के लिए शांति समिति के सदस्यों और सभी वर्गों के सभ्रांत लोगों की भी मदद ली जा रही है।

सोशल मीडिया पर रखी जा रही नजर

आपत्तिजनक पोस्ट डालकर माहौल खराब करने की कोशिश की आशंका को देखते हुए सोशल मीडिया पर अभी से नजर रखी जा रही है। इसके लिए साइबर अपराधियों को पकडऩे में दक्ष पुलिसकर्मियों की टीम बनाई गई है। यह टीम सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लगातार नजर रखेगी। सोशल मीडिया पर किसी भी तरह की आपत्तिजनक टिप्पणी होते ही यह टीम टिप्पणी करने वाले के बारे में पूरी जानकारी जुटाकर संबंधित थाने की पुलिस को सूचित कर उसकी गिरफ्तारी कराएगी।

ड्रोन कैमरे से भी रखी जाएगी नजर

शुक्रवार को नमाज के दौरान कोतवाली सर्किल में ड्रोन कैमरों की मदद से छतों पर निगरानी रखी जाएगी। इसके अलावा भीड़भाड़ वाले इलाकों, प्रमुख चौराहों और स्थानों पर नजर रखने के लिए कई सीसी टीवी कैमरे भी लगाए गए हैं।

कोतवाली सर्किल में पुलिस ने किया फ्लैग मार्च

शुक्रवार को शांति और सौहार्द बनाए रखने तथा लोगों को सुरक्षा का भरोसा दिलाने के लिए पुलिस ने गुरुवार की शाम को कोतवाली सर्किल के तीनों थाना क्षेत्रों में फ्लैग मार्च किया। इस दौरान लोगों से बातचीत कर शांति बनाए रखने में सहयोग करने की अपील की गई। साथ ही अमन में खलल डालने की कोशिश करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस