गोरखपुर, जेएनएन। कोरोना ने शिक्षा से लेकर व्यापार तक सबके सामने गंभीर चुनौती पेश की। इनमें से कुछ लोगों ने चुनौतियों से हार नहीं मानी और डटकर मुकाबला किया। सैलून का व्यापार कोरोना संक्रमण के दौर में सबसे अधिक प्रभावित हुआ है, लेकिन शहर के अलीनगर स्थित युवा मेकओवर ने कोरोनाकाल से जूझते हुए न सिर्फ अपनी एक अलग पहचान बनाई बल्कि कारोबार को रफ्तार भी दी। युवा मेकओवर की संचालिका स्वाति लखमानी ने सारी परेशानियों का डटकर मुकाबला किया। ग्राहकों का दिल जीता और पुराने ग्राहकों के अलावा नए ग्राहक भी जोड़े।

स्वाति बताती हैं कि कोरोनाकाल सैलून व्यापारियों के लिए सबसे बड़ी चुनौती बनकर सामने आया। लॉकडाउन के दौरान हमने अपने कर्मचारियों की हर संभव मदद की। उनके अतिरिक्त आय के लिए उन्हें पूरी सुरक्षा के साथ होम सर्विस की इजाजत दी, जिससे इस मुश्किल वक्त में हमारे और हमारे रिश्ते काफी मजबूत हुए। कोरोनाकाल में ग्राहक काम के बाद नकद भुगतान से कतराते थे। इसके लिए मैंने गूगल का सहारा लिया और ग्राहकों ने भी इस कार्य में आनलाइन भुगतान कर मेरा सहयोग किया।

सुरक्षा के साथ खोला सैलून, जगाया ग्राहकों में विश्वास

स्वाति के अनुसार कोरोना के बाद सैलून का व्यापार एकदम मंद पड़ गया था। ग्राहकों में डर था कि वे सैलून में बाल कटवाने आने-जाने से कहीं वह संक्रमित न हो जाएं। ग्राहकों के इस डर को दूर करने के लिए मैंने यह प्रचार-प्रसार करना शुरू किया कि सैलून आने वाले ग्राहकों की सुरक्षा का यहा पूरा ध्यान रखा जाता है। बिना सैनिटाइज किए काम नहीं किया जाता है। यह प्रक्रिया हर दिन अपनाई जाती है। मैंने लोगों तक यह बात पहुंचाई कि सरकार द्वारा जारी कोविड-19 गाइड लाइन का पालन किया जाता है। एक बार उपयोग में लाए गए तौलिया व कपड़ों का इस्तेमाल बिना धुले दूसरी बार नहीं किया जाता है। अधिक से अधिक यूज एंड थ्रो सामानों का ही उपयोग किया जाता है। सैलून में आने वाले ग्राहकों के शरीर का तापमान लेने के साथ ही उन्हें यह यह हिदायत दी थी कि बिना मास्क के सैलून के अंदर प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। यह सब जानने के बाद धीरे-धीरे ग्राहकों का विश्वास एक बार फिर जमा और आज एक बार फिर कारोबार ने रफ्तार पकड़ी ली है।

नवरात्र में कम किया रेट, दी स्कीम

स्वाति बताती हैं कि कोरोना और लॉकडाउन ने लोगों की आर्थिक स्थिति पर भी असर डाला। पैसे की कमी के कारण लोग सैलून में आने से कतराते थे। मैंने ग्राहकों की मतबूरियों को ध्यान में रखते हुए नवरात्र में न सिर्फ रेट कम किया बल्कि उन्हें किफायती स्कीम भी दिया। फेसियल, हेयर स्पा, सेङ्क्षवग, हेयर कङ्क्षटग व हेयर डाई आदि में तीस फीसद तक कटौती की। नफा-नुकसान को न देखते हुए हमने ग्राहकों से रिश्ते की डोर मजबूत करने पर ध्यान दिया। मूल्य कम जरूर किया, लेकिन क्वालिटी से समझौता नहीं किया। मैंने अपने ग्राहकों ध्यान रखते हुए बेहतर से बेहतर सर्विस दिया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस