गोरखपुर, जागरण संवाददाता। शासन ने जिले को हेल्थ एटीएम (आटोमेटेड टेलर मशीन) के रूप में एक बड़ी सौगात दी है। 59 तरह की जांच इस मशीन से हो सकती है। इसमें 16 तरह की जांचें सामान्य हैं, जिसमें खून के नमूने की जरूरत नहीं पड़ती। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) चरगावां में स्थापित होने के एक सप्ताह बाद भी बीमारी के हिसाब से रोगियों की जांच नहीं हो पा रही है। कर्मियों को प्रशिक्षण नहीं मिलने से अभी खून के नमूने की जांच शुरू नहीं हो पाई है। केवल रक्तचाप व मोटापा आदि की सामान्य जांचें ही हो पा रही हैं।

रक्तचाप, मोटापा आदि सामान्य जांच से संतोष कर रहे रोगी

हेल्थ एटीएम का उद्घाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 14 सितंबर को ही कर दिया था। एक साथ पांच मशीनें आई हैं। एक चरगांवा में स्थापित हुई है। शेष चार को उरुवा, कैंपियरगंज, डेरवा व सरदार नगर स्वास्थ्य केंद्र में भेज दिया गया है। जिन कर्मियों को सामान्य जांच का प्रशिक्षण दिया गया है, उनकी ड्यूटी पल्स पोलियो अभियान में लगा दी गई है। इसलिए सामान्य जांच भी प्रभावित होने लगी है। अनेक लोग लौट रहे हैं। पिछले चार दिन में केवल 40 लोगों की सामान्य जांच हुई है।

प्रशिक्षित कर्मियों के न रहने से नहीं हो पाती है जांच

प्रशिक्षित कर्मियों के अभाव में जांच बंद रह रहा है। रोगियों को बिना जांच कराए वापस जाना पड़ रहा है। दोपहर बाद कर्मी स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचते हैं तब जाकर कुछ सामान्य जांच शुरू हो पाती है। पीएचसी प्रभारी डा. धनंजय कुशवाहा ने बताया कि बीमारी के हिसाब से रोगियों के खून की जांच हेल्थ एटीएम से नहीं हो पा रही है। केवल सामान्य जांच हो रही है। अभी तक कंपनी के विशेषज्ञ यहां के कर्मियों को प्रशिक्षित नहीं किए हैं। उन्हें फोन किया गया है। प्रशिक्षण के बाद खून की जांच भी शुरू कर दी जाएगी।

Edited By: Pradeep Srivastava