गोरखपुर, जेएनएन। सांसद रवि किशन ने सोमवार को सदन में कहा कि फिल्म इंडस्ट्री ही नहीं कहीं भी बेटियों का उत्पीडऩ बर्दाश्त से बाहर की बात है। ऐसा कानून बनाने की जरूरत है, जिसके लागू होने के बाद बेटियों का उत्पीडऩ करने कोई साहस न जुटा सके। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान से हालात में काफी बदलाव आा है। बेटियों का सम्मान भी बढ़ा है, लेकिन बेटियों का उत्पीडऩ रोकने के लिए सख्त कानून की जरूरत है।

ऐसा कानून बने कि बेटियों का उत्पीडऩ करने का साहस न सके कोई

सांसद ने लोकसभा अध्यक्ष को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने देश की सारी बेटियों को अपनी बेटी बताया है। बेटियों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है। फिल्म इंडस्ट्री में बेटियों का शोषण आम होता जा रहा है। यह सदन की जिम्मेदारी है कि किसी भी बेटी का फिल्म इंडस्ट्री में ही बल्कि कहीं भी, किसी भी इंडस्ट्री में शोषण न होने पाए। सांसद ने कहा कि छोटी जगहों से लोग बड़े सपने लेकर महानगरों में आते हैं। कोई बेटी फिल्मों में अपना कैरियर बनाना चाहती है। उसका सब कुछ दांव पर लगा होता है। ऐसे में कोई निर्देशक आसानी से उसे अपने जाल में फंसाकर सौदेबाजी करने लगता है। यह सौदबाजी रोकनी होगी। जीवन बदल देने की बात कहकर बेटियों को शोषण करने वाले निर्देशकों को कड़ी सजा का प्रावधान करना होगा। यह मोदी की सरकार है, हमारी सरकार है। हमें एक ऐसा कानून बनाना होगा, जिससे बेटियों के शोषण पर प्रभावी रोक लग सके।

फिल्म सिटी बनाने की घोषणा पर सीएम योगी को दी बधाई

रवि किशन ने उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनाए जाने की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करने पर प्रसन्नता जताई है। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री के आभार जताया है तथा उन्हें बधाई भी दी है। बोले, 18 वर्ष से कर रहा था संघर्ष, योगी सरकार ने पूरा किया सपना मुख्यमंत्री की घोषणा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सांसद ने कहा कि फिल्म सिटी के लिए 18 साल से संघर्ष कर रहा था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की वजह से अब सपना साकार होने जा रहा है। इससे न केवल पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे और सिनेमा के निर्माण में भी बदलाव आएगा।सांसद ने बताया कि देश की सबसे भव्य और खूबसूरत फिल्म सिटी बनाने के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री से मिलकर व्यक्तिगत तौर पर अनुरोध किया तथा और पत्र भी लिखा था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस