गोरखपुर, जेएनएन। परिचय पूछने के मामले में विवाद के बाद निगरानी समिति की बैठक का बहिष्कार करने वाले भाजपा के पार्षदों को महापौर सीताराम जायसवाल ने मना लिया है। भाजपा पार्षद निगरानी समिति की बैठक में शामिल होंगे और अपने वार्डों में बाहर से आने वालों की पूरी जानकारी प्रशासन को देंगे।

विपक्षी पार्षद अपने निर्णय पर अडिग

हालांकि विपक्षी दलों के पार्षद अब भी निगरानी समिति की बैठक में शामिल न होने के निर्णय पर अडिग हैं। महापौर का कहना है कि पार्षदों की पीड़ा का समाधान किया जा रहा है। महापौर ने धर्मशाला बाजार स्थित अपने कैंप कार्यालय में पार्षदों की बैठक बुलाई थी। बैठक का संचालन पार्षद दल के उप नेता ऋषि मोहन वर्मा ने किया। इस दौरान उपसभापति अजय राय, आलोक ङ्क्षसह विशेन, राजेश तिवारी, रामभुआल कुशवाहा, संध्या गुप्ता, चंद्र प्रकाश सिंह, बबलू प्रसाद गुप्ता, आनंद वर्धन ङ्क्षसह, राधेश्याम रावत, मंतालाल यादव, संतराज शर्मा, राजेंद्र कुमार तिवारी, अनिल कुमार ङ्क्षसह, राम लवट निषाद, कृष्ण मोहन यादव आदि मौजूद रहे।

बैठक का किसी ने नहीं किया बहिष्‍कार

महापौर सीताराम जायसवाल का कनहा है कि निगरानी समिति की बैठक का किसी ने बहिष्कार नहीं किया था। सूचना न पहुंच पाने के कारण लोग नहीं आ पाए थे। फिजिकल डिस्टेंङ्क्षसग का पालन करने के कारण आज की बैठक में भी सभी को नहीं बुलाया गया था। दो-तीन दिन में सभी के साथ बैठक की जाएगी।

पार्षद दल के नेता ने कहा-हम अपने फैसले पर कायम

पार्षद दल के नेता एवं सपा पार्षद अशोक यादव का कहना है कि पार्षदों से बदसलूकी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होने तक बैठकों का बहिष्कार जारी रखेंगे। महापौर से कोई बात नहीं हुई है। कोरोना से बचाव के लिए हम पूरी जिम्मेदारी के साथ काम कर रहे हैं। यदि महापौर बात करेंगे तो पार्षदों से विचार-विमर्श कर निर्णय लिया जाएगा।

ऐसे बिगड़ी स्थिति

नगर निगम में बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक लगाने के लिए गेट पर ही जांच की व्‍यवस्‍था की गई थी। जांच में सपा पार्षद जियाउल इस्‍लाम से भी पूछताछ की गई। पूछताछ करते ही वह भड़क गए थे। इसी मामले को लेकर जांच टीम को वहां से हटाने और कार्रवाई की मांग विपक्षी दल कर रहे हैं। 

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस