गोरखपुर, जेएनएन। After Ayodhya Verdict अयोध्या मामले में फैसला आने के बाद पुलिस की चौकसी लगातार जारी। चौराहों, संवेदनशील स्थानों और कस्बों में पुलिस तैनात है। जिले में पूरी तरह से शांति कायम है। इस बीच विभिन्न माध्यमों से अफवाह फैलाने के आरोप में छह युवकों को हिरासत में लिया गया है। मुकदमा दर्ज कर उनके विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है।

60 संवेदनशील स्थान चिह्नित

फैसला आने से पहले ही पुलिस ने सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशीलता के आधार पर 60 स्थानों को चिह्नित किया था। अधिक संवेदनशील स्थानों पर सीओ के नेतृत्व में सुरक्षा बल तैनात किए गए थे। अपेक्षाकृत कम संवेदनशीलता वाले स्थानों पर इंस्पेक्टर या उप निरीक्षक के नेतृत्व में पुलिस तैनात की गई थी। नागरिक सुरक्षा कोर के लोग भी इन स्थानों पर मौजूद रहकर पुलिस वालों का सहयोग कर रहे थे। फैसला आने से पहले ही इन स्थानों पर पुलिस तैनात कर दी गई थी। रविवार को भी वहां पुलिस तैनात रही।

बाजारों में रही चहल-पहल

प्रमुख बाजारों में खासी चहल-पहल रही। हालांकि बाहर के व्यापारी और दुकानदार खरीदारी करने नहीं आए। साहबगंज, घंटाघर, पांडेयहाता, रेती आदि थोक बाजार में दुकानें तो खुली रहीं लेकिन भीड़भाड़ नहीं थी। अलबत्ता स्थानीय लोगों की मौजूदगी से चहल-पहल कायम रही।

गश्त पर रही महिला पुलिस की टीम

एसएसपी डा. सुनील गुप्त के निर्देश पर महिला थाने की पुलिस टीम खासतौर से गश्त पर निकली थी। महिला थाना प्रभारी अर्चना सिंह के नेतृत्व में महिला पुलिसकर्मियों का बाइक दस्ता महिला थाने से पुलिस लाइंस होते हुए गोलघर, कचहरी चौरहा, शास्त्री चौराहा, छात्रसंघ, पैडलेगंज होते हुए रामगढ़ ताल इलाके में गश्त किया। महिला पुलिसकर्मियों के दस्ते में कुछ पुरुष पुलिस कर्मियों को भी शामिल किया गया था।

आपत्तिजनक आडियो वायरल करने वाले चार गिरफ्तार

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक आडियो वायरल करने के चारों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। आडियो वायरल करने के कुछ देर बाद ही पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया था। आरोपितों में एक नाबालिग है। उनकी निशानदेही पर पोस्ट वायरल करने में प्रयुक्त चार मोबाइल फोन बरामद कर लिया गया है।

10 सेकेंड का आपत्तिजनक आडियो किया गया था वायरल

शनिवार सुबह 10 बजे के आसपास 10 सेकेंड का आपत्तिजनक आडियो एक ग्रुप में वायरल किया गया था। आडियो वायरल होते ही पुलिस के साइबर सेल ने इसे ट्रैक कर लिया था। उन्होंने उच्‍चाधिकारियों को इसकी सूचना दी। उनके निर्देश पर सहजनवां क्षेत्र के भरपही निवासी ग्रुप एडमिन शकील अहमद को सहजनवां पुलिस ने तत्काल हिरासत में ले लिया। उससे पूछताछ के बाद आडियो वायरल करने में शामिल उसी गांव के ही शाबिर अली उर्फ पप्पू और महरूफ तथा एक नाबालिग को भी हिरासत में लिया गया। उनके मोबाइल फोन जब्त कर लिए गए। सहजनवां थाने के उप निरीक्षक शंभू नाथ सिंह की तहरीर पर चारों के विरुद्ध आई एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज हुआ था। शनिवार की रात में पूछताछ करने के बाद रविवार सुबह औपचारिक तौर पर उन्हें गिरफ्तार किया गया।

कड़ी सुरक्षा के बीच स्टेशनों पर बढ़ी चहल-पहल

रविवार को भी रेलवे स्टेशन पर कड़ी सुरक्षा के बीच प्लेटफार्मों पर चहल-पहल रही। रोजाना की भांति प्लेटफार्म नंबर एक, दो और नौ पर भीड़ रही। लखनऊ और वाराणसी जाने वाली इंटरसिटी, दिल्ली (हिसार) जाने वाली गोरखधाम और पैसेंजर ट्रेनें भी फुल होकर चलीं। गोरखधाम में सीट के लिए सुबह से ही लाइन लग गई थी। टिकट काउंटरों पर देर रात तक लोगों की भीड़ रही। स्टेशन परिसर ही नहीं, सभी प्लेटफार्मों और गेटों पर जीआरपी व आरपीएसएफ के जवान मुस्तैद हैं। स्टेशनों की निगरानी के लिए आरपीएसएफ की एक कंपनी लगाई गई है।

पंचकोसी श्रद्धालुओं को वापस लेकर लौट आई दो सौ बसें

अयोध्या से होकर बसों का संचलन शुरू हो गया है। बस डिपो की स्थिति सामान्य है।बसों में चढऩे के लिए लोगों को धक्कामुक्की करनी पड़ी। गोरखपुर परिक्षेत्र से अयोध्या के लिए भेजी गईं दो सौ बसें पंचकोसी श्रद्धालुओं को लेकर वापस लौट आई हैं। ऐसे में गोरखपुर के बेड़े में बसों की संख्या पर्याप्त हो गई है। इसके साथ ही बसों का संचलन भी और दुरुस्त हो गया है। पंचकोसी के लिए अयोध्या पहुंचे श्रद्धालुओं को वापस करने के लिए शासन ने सभी परिक्षेत्रों से बसों की मांग की थी।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस