गोरखपुर, जागरण संवाददाता : दूसरे का मोबाइल नंबर डालकर ई-टिकट बनाने वाले एक आरोपित को रेलवे सुरक्षा बल व अपराध सूचना शाखा गोरखपुर की संयुक्त टीम ने बस्‍ती जिले के मुंडेरवा कस्बे से गिरफ्तार कर लिया। आरोपित के पास से 35 ई-टिकट बरामद हुए हैं।

रेलवे बोर्ड से मिली थी सूचना

आरपीएफ इंस्पेक्टर नरेंद्र यादव ने बताया कि रेलवे बोर्ड से रिपोर्ट मिली कि यूपी पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के मोबाइल नंबर का दुरुपयोग कर रेलवे का ई-टिकट बनाया गया है। मोबाइल पर मैसज पहुचंने पर पुलिस अधिकारी को जानकारी हुई और उन्होंने इसकी शिकायत दर्ज कराई। दोनों टीमों ने मुंडेरवा में एक दुकान पर छापेमारी की। यहां संचालक मोहम्मद हलीम पुत्र कशब्दुला निवासी नगरा थाना मुंडरेवा जिला बस्ती को गिरफ्तार किया गया। उसने अपना जुर्म स्वीकार किया। तलाशी में बरामद ई-टिकट की कुल कीमत 56 हजार 622 रुपये है। आरोपित के अनुसार वह दुकान पर टिकट और रिचार्ज के लिए आए ग्राहकों के मोबाइल पर ओटीपी लेकर आइआरसीटीसी की आइडी बना लेता था और आरपीएफ से बचने के लिए टिकट बनाते समय यात्री के मोबाइल नंबर के स्थान पर रेंडम कोई भी नंबर डाल देता था, जिसमें गलती से यूपी पुलिस के उच्चाधिकारी का नंबर डाल दिया। बताया कि अन्य कोई मंशा उसकी नही थी।

आरोपित के बारे में की गई छानबीन

आरोपित का एक साल के बैंक डिटेल,पेटीएम, फोनपे, गूगलपे डिटेल चेक किया गया। लैपटाप और मोबाइल की भी गहन जांच की गई। टिकट दलाली के अलावा अन्य किसी प्रकार संलिप्तता नही पाई गई । गिरफ्तार आरोपित के विरुद्ध आरपीएफ पोस्ट ने रेल अधिनियम की धारा में मामला पंजीकृत किया है। गिरफ्तारी टीम में एसआइ सुनील कुमार कसाना, हेड कांस्टेबल मृत्युंजय सिंह, कांस्टेबल इंद्रजीत गिरि, बेचू खरवार, कृष्णमोहन पाठक, पलकधारी यादव, अपराध आसूचना शाखा गोरखपुर निरीक्षक दशरथ प्रसाद, एएसआइ लक्ष्मीशंकर यादव, हेड कांस्टेबल विनोद कुमार, बस्ती पुलिस सर्विलांस टीम के कांस्टेबल जितेंद्र यादव, कांस्टेबल संतोष और कांस्टेबल जनार्दन शामिल रहे।

Edited By: Rahul Srivastava