गोरखपुर : ब्रह्मलीन महंत दिग्विजय नाथ और ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि के अवसर पर गोरखनाथ मंदिर में आयोजित होने वाले परंपरागत पुण्यतिथि समारोह को लेकर मंदिर प्रबंधन ने तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है। 23 से 29 सितंबर को आयोजित होने वाले इस समारोह के तहत आयोजित होने वाली अध्यात्मिक संगोष्ठियों के वक्ताओं के नाम भी तय कर लिए गए हैं। मंदिर के महंत दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार में विभिन्न विषयों पर सात दिन तक चलने वाली संगोष्ठी में जगद्गुरु शकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद, महंत सुरेश दास, महंत नृत्यगोपाल दास, राम विलास वेदाती, स्वामी चिन्मयानंद जैसे सिद्ध संतों और महंतों ने बतौर अतिथि हिस्सा लेने के लिए अपनी सहमति प्रदान कर दी है। इस बार कथा सुनाने के लिए रामकथा व्यासपीठ पर विराजमान होंगे वाराणसी के जगद्गुरु अनंतानंद द्वाराचार्य स्वामी डॉ. रामकमल दास वेदांती। संगोष्ठी के आयोजन का समय सुबह 10:30 बजे निर्धारित है। रामकथा का आयोजन शाम तीन से छह बजे के बीच होगा। शुभारंभ और श्रद्धांजलि सभा में मौजूद रहेंगे मुख्यमंत्री योगी

पुण्यतिथि समारोह के शुभारंभ और समापन अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे। मंदिर प्रबंधन के मुताबिक आयोजन में हिस्सा लेने के लिए मुख्यमंत्री 22 सितंबर को ही आ जाएंगे। 23 सितंबर को संगोष्ठी के शुभारंभ कार्यक्रम के बाद उनका लखनऊ लौट जाने का कार्यक्रम है। उसके बाद वह 28 अगस्त को एक बार फिर वह गोरखपुर आएंगे और 28 सितंबर को महंत दिग्विजयनाथ व 29 सितंबर को महंत अवेद्यनाथ की श्रद्धांजलि सभा में हिस्सा लेंगे। संगोष्ठी में तिथि व विषयवार वक्ताओं का ब्यौरा

तिथि विषय संत वक्ता

23 सितंबर लोक कल्याण व भारतीय संस्कृति सुरेश दास, अवधेश दास, रामकमल दास

24 सितंबर संस्कृत एवं संस्कृति सम्मेलन श्याम दास, सुरेश दास

25 सितंबर सामाजिक समरसता भारतीय संस्कृति का प्राण नारायण गिरि, सुरेश दास, श्यामदास

26 सितंबर भारतीय संस्कृति में गो-सेवा का महत्व स्वामी गोपाल, विद्याचैतन्य, नारायण गिरि, सुरेश दास

27 सितंबर स्वच्छ भारत अभियान समर्थ भारत की आधारशिला जगतगुरु वासुदेवाचार्य, चिन्मयानंद, डॉ. रामविलास वेदांती, शिवनाथ, सुरेश दास

28 सितंबर महंत दिग्विजयनाथ की श्रद्धांजलि सभा शंकराचार्य वासुदेवानंद सरस्वती, हंसदेवाचार्य, नृत्यगोपाल दास, सुरेंद्र नाथ, दासलाल

29 सितंबर महंत अवेद्यनाथ की श्रद्धांजलि सभा नृत्यगोपाल दास,शंकराचार्य वासुदेवानंद सरस्वती, हंसदेवाचार्य, वासुदेवाचार्य समाधिस्थल पर होता है अखंड मानस पाठ

पुण्यतिथि समारोह के दौरान श्रद्धाजलि सभा के पहले दिन से पूरे विधि-विधान से अखंड रामचरित मानस पाठ की परंपरा भी है। अखंड पाठ का आयोजन दोनों ब्रह्मलीन महंतों के समाधि स्थल पर किया जाता है। प्रबंधन के मुताबिक इस बार पाठ की शुरुआत 28 सितंबर को सुबह 10 बजे से होगी और जिसका समापन 29 सितंबर को सुबह 10 बजे ही होगा।

Posted By: Jagran