गोरखपुर, जागरण टीम। पूर्व मुख्यमंत्री व सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को सिद्धार्थनगर जिले के सदर थाना के कोड़राग्रांट के इस्लामनगर के गोलीकांड में मृत महिला रोशनी के स्वजन से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने पीड़ित परिवार से पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली। 22 मई को पुत्री के प्रस्तावित विवाह में सहयोग प्रदान करने का वादा किया। मुकदमा की पैरवी करने में पार्टी की ओर से अधिवक्ता उपलब्ध कराने की पेशकश भी की।

स्वजन ने बताया पूरा घटनाक्रम: पूर्व मुख्यमंत्री ने सबसे पहले गांव निवासी 11 वर्षीय बालक अदनान से घटना के संबंध में पूछा। बालक ने बताया कि रात को पुलिस गांव में आई थी। इसके बाद मृत महिला रोशनी की पुत्री राबिया ने बताया कि रात को पुलिस की वर्दी पहने कुछ लोग घर में घुसे थे। भाई को पकड़ कर ले जाने लगे तो मां ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। इसी दौरान गांव के और लोग भी जुट गए। तभी अचानक से किसी ने मां को गोली मार दी। कुछ लोगों ने हेलमेट पहन रखा था और अंधेरा होने के कारण किसी का चेहरा पहचान में नहीं आया।

हमलावार को पहचानने से किया इनकार: मृतका के दोनों बेटे अब्दुल रहमान और फारूख ने भी बताया कि वह किसी का चेहरा नहीं देख सके थे। पूर्व प्रधान मोहम्मद अली व अकबर अली ने भी घटना के संबंध में जानकारी दी, लेकिन पहचान नहीं हो सकी। इस दौरान विधायक इटवा माता प्रसाद पांडेय, डुमरियागंज की सैय्यदा खातून, जिलाध्यक्ष लालजी यादव, उग्रसेन सिंह, कमाल खान आदि मौजूद रहे।

भाजपा सरकार में पुलिस को न जानें क्या हो गया: अखिलेश यादव

पूर्व मुख्यमंत्री व सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि जब से भाजपा की सरकार आई है, तब से न जाने पुलिस को क्या हो गया है। कोड़राग्रांट के इस्लामपुर की घटना दुखद है, इसकी जितनी निंदा की जाए कम है। जो पुलिस रक्षा करती है, वहीं अब जान लेने लगी है। ललितपुर, चंदौली अभी भूला नहीं गया कि अब यह घटना हो गई। महिला आयोग ने सबसे ज्यादा नोटिस उप्र पुलिस को दी है। इस बात को लेकर सदन में उठाया जाएगा। पुलिस ने कहानी बनाई है, सच्चाई सामने आएगी। सरकार से हाईकोर्ट के न्यायाधीश के निगरानी में इस मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की जाएगी।

उन्होंने यह बातें सदर थाना के कोड़राग्रांट में पत्रकारों से वार्ता के दौरान कही। वह गोलीकांड में मृत महिला के स्वजन से मुलाकात करने के लिए आए थे। केंद्र व प्रदेश सरकार को महंगाई, कानून व्यवस्था के मुद्दे पर घेरते हुए कहा कि आज इस परिवार से मिलने आया। एक बेटा जो बाहर रहता है, कुछ दिन पहले गांव आया था, उसे पुलिस पकड़ कर ले जा रही थी। देश में सबसे ज्यादा अभिरक्षा में मौत के मामले यहां मिले हैं। न्याय की लड़ाई में पार्टी स्वजन के साथ खड़ी होगी।

प्रदेश में लगातार घटनाएं हो रही है। सरकार की ठोको नीति में यह नहीं मालूम किस पर कार्रवाई करनी है। महंगाई चरम पर है। डालर के मुकाबले रुपये का मूल्य घटकर कहां पहुंच गया है। डीजल-पेट्रोल के बढ़ते मूल्य पर कोई बात नहीं करता। सदन चलने वाला है, ज्ञानवापी और मथुरा के मुद्दे पर सबका ध्यान भटकाने का काम किया जा रहा है। गेहूं खरीद के नाम पर पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाया जा रहा है। अब सुनने में आया है कि गरीबों को निश्शुल्क मिलने वाले खाद्यान्न में गेहूं नहीं दिया जाएगा। शासन में आने के बाद भाजपा सरकार गरीबों को भूल गई है। इटवा के विधायक माता प्रसाद पांडेय, डुमरियागंज की सैय्यदा खातून, जिलाध्यक्ष लालजी यादव, पूर्व राज्यसभा सदस्य आलोक तिवारी, उग्रसेन सिंह आदि मौजूद रहे।

Edited By: Pragati Chand