गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर शहर में अंडरग्राउंड केबिल बिछाने में हुआ भ्रष्टाचार अब सामने आने लगा है। कहीं लाइन ट्रिप हो रही है तो कहीं पैनल में आग लग जा रही है। दावे थे अच्छी व्यवस्था के साथ निर्बाध आपूर्ति की लेकिन हकीकत में दुश्वारी और बढ़ गई है। बार-बार फाल्ट और ट्रिपिंग में सुधार न होने पर पैनल के बाहर से उपभोक्ताओं का केबिल जोड़ दिया जा रहा है।

शहर के प्रमुख स्थानों के सुंदरीकरण को ध्यान में रखते हुए ओवरहेड लाइनों को हटाने का निर्णय लिया गया है। इसके तहत जगह-जगह अंडरग्राउंड केबिल से आपूर्ति का निर्णय लिया गया था। शासन ने अलग-अलग चरणों में 160 करोड़ रुपये भी स्वीकृत किए थे। शहर में चार फर्मों को अंडरग्राउंड केबिल बिछाने की जिम्मेदारी दी गई थी लेकिन कहीं भी मानक पूरे नहीं हुए। अफसर भी अपने कमरों में बैठकर फर्म की ओर से दिए गए बिल पास कर भुगतान कराते रहे। अब जब अंडरग्राउंड केबिल पर लोड बढ़ रहा है तो फाल्ट होने लगे हैं।

केस एक

बक्शीपुर उपकेंद्र से थोड़ी दूर पर अलीनगर मार्ग पर शनिवार सुबह अंडरग्राउंड केबिल के पैनल में आग लग गई। तेज धमाके होने लगे तो अफरातफरी मच गई। बिजली कटने के बाद भी काफी देर तक आग जलती रही। शाम को केबिल ठीक कर आपूर्ति बहाल कराई जा सकी। उपभोक्ताओं का आरोप है कि घटिया सामान के कारण लोड बढ़ते ही तार जलने लग रहे हैं।

केस दो

गोरखनाथ क्षेत्र में दो दिन पहले अंडरग्राउंड केबिल में फाल्ट आने के बाद पूरी रात बिजली गुल रही। इसके एक हफ्ते पहले भी फाल्ट के कारण रात भर बिजली नहीं मिली थी। गंभीर बात यह है कि फाल्ट ठीक करने से कर्मचारियों ने इंकार कर दिया। बाद में अफसरों के हस्तक्षेप के बाद फाल्ट ठीक कराने की कवायद शुरू की गई। दोपहर बार ट्रिपिंग आम समस्या होती जा रही है।

पैनल बस दिखाने को

अलीनगर मुख्य मार्ग पर पैनल के बाहर तारों के झुंड में केबिल से जोड़ देख लोग हैरान रह जा रहे हैं। पैनल के नीचे जमीन से उपभोक्ताओं के घर के बाहर की दीवार पर लगे मीटर में जो जार जुडऩा चाहिए था वह पैनल के बाहर से सीधे जोड़ दिया गया है। सिनेमा रोड पर भी यही स्थिति है। गोरखनाथ, बक्शीपुर समेत सभी इलाकों में पैनल से आपूर्ति में दिक्कत होने पर सीधे केबिल जोड़कर आपूर्ति शुरू कर दी जा रही है।

कुछ भी अच्छा नहीं किया

बक्शीपुर निवासी दुकानदार एजाज अहमद कहते हैं कि पैनल लगाने से पहले तो रास्ता संकरा हो गया दूसरे आपूर्ति ठीक होने की बजाय बदतर हो गई। अफसरों से शिकायत करो तो वह कुछ बोलने से ही मना कर देते हैं। किसी तरह कर्मचारियों को सेट कर काम कराया जा रहा है। बक्शीपुर उपकेंद्र सटे रास्ते पर तीन बड़े बॉक्स रख दिए जाने से आने-जाने में भी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। उपभोक्ताओं का आरोप है कि जब ठेकेदार खराब काम करा रहे थे तभी अफसरों को जानकारी दी गई थी लेकिन किसी ने नहीं सुना।

अंडरग्राउंड केबिल से जुड़ी समस्याओं के त्वरित समाधान के निर्देश दिए गए हैं। जांच भी चल रही है। जल्द ही व्यवस्था ठीक हो जाएगी। - देवेंद्र सिंह, चीफ इंजीनियर

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस