गोरखपुर, जागरण संवाददाता। विधानसभा चुनाव के दौरान अनावश्यक खर्चों पर अंकुश लगाने के लिए प्रशासन की ओर से तरह-तरह के उपाय किए जा रहे हैं। इसी क्रम में बैंकों से इस दौरान होने वाले संदिग्ध लेनदेन की जानकारी प्राप्त की जाएगी। इसको लेकर जल्द ही जिला निर्वाचन अधिकारी की ओर से बैंकों को पत्र भी लिखने की तैयारी है। यह कदम चुनाव को निष्‍पक्ष ढंग से संपन्‍न कराने के उद्देश्‍य से उठाया गया है।

सचल दल विभिन्‍न में करेगा दौरा

चुनाव में प्रत्याशियों के खर्च पर नजर रखने के लिए जिला प्रशासन की ओर से विभिन्न टीमों का गठन किया गया है। सचल दल विभिन्न क्षेत्रों में दौरा कर इस बात की जांच करेंगे कि कोई धनबल के सहारे चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश न करे। माना जाता है कि इस दौरान बैंकों से भी पैसे की निकासी बढ़ जाती है। बैंक खाते में पैसा जमा करना एवं निकालना आमतौर पर सामान्य प्रक्रिया होती है लेकिन संदिग्ध लेनदेन की श्रेणी में ऐसे लोगों द्वारा जमा व निकासी को रखा जाएगा, जो सामान्य तौर पर किए जाने वाले लेनदेन की तुलना में अप्रत्याशित रूप से अधिक धनराशि की निकासी कर रहे हैं या उनके खाते में सामान्य से अधिक धनराशि जमा हो रही है।

कुछ दिन में ही जमा धनराशि निकालने को माना जाएगा संदिग्‍ध

जमा धनराशि को कुछ दिनों में ही निकाल लिया जा रहा है तो इसे भी संदिग्ध माना जाएगा और ऐसे लोगों की जानकारी प्रशासन से साझा करनी होगी। प्रशासन इन लोगों पर नजर रखेगा कि वे किसी प्रत्याशी के पक्ष में मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए इस धनराशि का उपयोग तो नहीं कर रहे हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी विजय किरन आनंद ने बताया कि चुनाव के दौरान आय-व्यय पर नजर रखने के लिए अलग-अलग टीमों का गठन किया गया है। बैंकों को भी इस संबंध में अप्रत्याशित लेनदेन की जानकारी देने को लेकर पत्र लिखा जाएगा।

Edited By: Navneet Prakash Tripathi