गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर नगर निगम के प्रवर्तन बल के हाथ में व्यवस्था आने के बाद गोलघर स्थित मल्टी लेवल पार्किंग में वाहनों की संख्या बढऩे लगी है। गोरखपुर पार्किंग में बुधवार को 44 कार और 25 से अध‍िक बाइक खड़ी कराई गई थीं। इधर, नो पार्किंग में वाहन खड़ा करने वालों के खिलाफ निजी कंपनी की क्रेन ने कार्रवाई की। शाम तक 17 कार और 45 बाइकों को पुलिस लाइन पहुंचाया गया। कार चालकों से एक-एक हजार और बाइक चालकों से तीन-तीन सौ रुपये जुर्माना जमा कराया गया।

प्रवर्तन बल ने संभाला मोर्चा

नगर निगम के प्रवर्तन बल ने गोलघर की पार्किंग में वाहनों को खड़ा कराना शुरू कर द‍िया है। प्रवर्तन बल की एक टीम पूरे दिन गोलघर में वाहन लेकर आ रहे लोगों को जागरूक करने में जुटी रही। जवानों ने लोगों को प्रेरित कर पार्किंग में वाहन खड़ा करने को कहा। प्रवर्तन बल के प्रभारी कर्नल सीपी सिंह ने बताया कि गोलघर में नो पार्किंग की व्यवस्था पूरी तरह लागू की जाएगी। लोगों को लगातार जागरूक किया जा रहा है। एक बार नागरिकों ने पार्किंग के इस्तेमाल की ठान ली तो फिर गोलघर में कभी जाम नहीं लगेगा।

पहले गोलघर फिर दूसरे इलाके

नो पार्किंग में खड़े वाहनों को उठाकर पुलिस लाइन पहुंचाने का काम नगर निगम के अधीन काम कर रही क्रेन सर्विस ने तेज कर दिया है। संचालक प्रशांत सिंह ने कहा कि क्रेन से वाहन उठाने के पहले चेतावनी दी जा रही है। जो लोग वाहन में बैठे रहते हैं वह तत्काल पार्किंग में चले जाते हैं लेकिन कई ऐसे लोग हैं जो सड़क पर वाहन छोड़कर चले जाते हैं। इस कारण जाम लगता है। ऐसे वाहनों को उठाया जा रहा है। कहा कि गोलघर में नो पार्किंग की व्यवस्था पूरी तरह लागू होने के साथ ही मोहद्दीपुर व अन्य स्थानों पर अभियान चलाया जाएगा।

वेंडिंग जोन में सन्नाटा, सड़क पर ठेला का रेला

शहर को जाम से मुक्ति दिलाने की कवायद में सड़क पर डंडा पीट रहे अफसर वेंडिंग जोन तक ठेला नहीं पहुंचा पा रहे हैं। तीन स्थानों पर वेंडिंग जोन उद्घाटन के बाद 435 पटरी व्यवसायियों का इंतजार कर रहा है और पटरी व्यवसायी सड़क किनारे से हटने के लिए तैयार नहीं हैं। जिम्मेदारों की लापरवाही से शहर में जगह-जगह ठेले लग रहे हैं। पटरी व्यवसायियों को व्यापार के लिए जगह देने को शहर में ट्रांसपोर्टनगर, हरिओम नगर और रुस्तमपुर में वेंडिंग जोन बनाया गया है। यहां चबूतरा बनाकर शेड भी लगाया गया है। वेंडिंग जोन में पटरी व्यवसायियों के लिए पानी, प्रकाश और शौचालय की भी व्यवस्था की गई है। नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने कहा कि पटरी व्यवसायियों को वेंडिंग जोन में जाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। सभी वेंडिंग जोन की सफाई करा दी गई है।

पटरी व्यवसायियों को दिया गया था परिचय पत्र

तीन साल पहले जिला नगरीय विकास अभिकरण (डूडा) ने पटरी व्यवसायियों को चिह्नित करने के लिए अभियान चलाया था। पूरे शहर में 7757 पटरी व्यवसायियों को चिह्नित कर परिचय पत्र दिए गए थे। वेंडिंग जोन बनाने के प्रस्ताव को शासन ने स्वीकृति दी तो पटरी व्यवसायियों के नाम की सूची के साथ डूडा ने डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) बनायी थी। बजट स्वीकृत होने के बाद नगर निगम ने वेंडिंग जोन का निर्माण कराया।

यहां है वेंडिंग जोन

जगह पटरी व्यवसायी रुपये

ट्रांसपोर्टनगर 280 2.39

हरिओम नगर व रुस्तमपुर 155 1.43

नोट- रुस्तमपुर में 20 और हरिओम नगर में 135 पटरी व्यवसायियों के लिए व्यवस्था है। (सभी आंकड़े करोड़ रुपये में)

प्रवर्तन बल के जाते ही खड़े हो रहे ठेले

गोलघर को नगर निगम ने नो वेंडिंग जोन घोषित कर रखा है। यहां नगर निगम का प्रवर्तन बल ठेले और पटरी व्यवसायियों को हटाता है। प्रवर्तन बल के जवानों के जाते ही पटरी व्यवसायी फिर आ जाते हैं।

Edited By: Pradeep Srivastava