महराजगंज: कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट है। इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग ने पीडियाट्रिक वार्ड सहित जिला कोविड अस्पताल में तमाम तैयारियां पूरी कर ली हैं। कुल 150 बेड की व्यवस्था के साथ 20 पीआइसीयू बेड बच्चों के लिए तैयार कर दिए गए हैं, साथ ही 24 वेंटिलेटर की व्यवस्था भी है। इसके अतिरिक्त तीमारदारों के ठहरने के लिए ग्राउंड फ्लोर पर व्यवस्था की जाएगी। अस्पताल में सीसी कैमरे लगवा दिए गए हैं। जिससे हर फ्लोर की पूरी रिकार्डिंग होती रहे। साथ ही बिना पास गए किसी भी कमरे के मरीज से स्वजन बात कर सकें, इसके लिए इंटरकाम टेलीफोन भी लगा दिए गए हैं। इसके साथ ही जिले के अन्य अस्पतालों में व्यवस्थाओं को बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने प्लान तैयार कराने के साथ ही काम तकरीबन पूरा कर लिया है।

जिला कोविड अस्पताल में डाक्टरों के ड्यूटी कक्ष के साथ ही वार्ड में भी सभी व्यवस्थाएं करा दी गई है। मरीजों की बेहतर देखभाल हो इसके लिए 40 बेड का आइसीयू तैयार हो चुका हैं, जिसमें 20 पीआइसीयू हैं। आक्सीजन की कमी न हो इसके लिए जिला अस्पताल पर दो आक्सीजन प्लांट की स्थापना कर ली गई है। स्टाफ को भी प्रशिक्षण दिया जा चुका है। हर फ्लोर पर बोर्ड लगा दिए गए हैं। सभी वार्डों में एग्जास्ट फैन भी लगाए गए हैं। सेंट्रल आक्सीजन की डबल लाइन भी लगवा दी गई है। इसके साथ ही कंट्रोल रूम में 24 घंटे कर्मचारियों की ड्यूटी लगाने के साथ ही मानिटरिग के लिए सुपरवाइजर भी लगा दिए हैं। जिससे लगातार मरीजों के बारे में जानकारी अपडेट होती रहेगी।

सीएमओ डा. एके श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। तीसरी लहर में बच्चों के चपेट में आने की संभावनाएं अधिक व्यक्त की गई हैं, इसको लेकर पीडियाट्रिक वार्ड भी बेहतर तरीके से तैयार कर लिया गया है। कोरोना से जंग लड़ने के लिए स्वास्थ्य महकमा तैयार है। तीन आक्सीजन प्लांट तैयार, पांच और लगाने की तैयारी

जिला महिला अस्पताल में दो जबकि एक परतावल में कुल तीन आक्सीजन प्लांट से जिले में आक्सीजन सप्लाई दी जा रही है। तीसरी लहर को देखते हुए पांच और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों और जिला अस्पताल पर एक और आक्सीजन प्लांट लगाने की तैयारी है। सीएमओ एके श्रीवास्तव ने बताया कि आक्सीजन की दिक्कत अब नहीं होगी। इंटरकाम टेलीफोन से दूर से ही कर सकेंगे बात

कोरोना संक्रमण में पिछले दिनों सबसे अधिक पीड़ा अगर किसी को हुई तो वह तीमारदारों को। अस्पताल में भर्ती मरीजों से बात भी नहीं कर सकते थे। ऐसे में जिला कोविड अस्पताल में इंटरकाम टेलीफोन की व्यवस्था की गई है जिसपर अस्पताल में उपस्थित मरीज के तीमारदार दूर से ही अपने मरीज से बात कर सकेंगे।

Edited By: Jagran