गोरखपुर, जागरण संवाददाता। ग्राम पंचायतों के सुचारू संचालन के लिए ग्राम सचिवालय की स्थापना की तैयारी चल रही है। ग्राम सचिवालय सक्रिय होने के साथ ही जिले में 1294 युवाओं को रोजगार भी मिल सकेगा। इन सचिवालयों में पंचायत सहायक/एकाउंटेंट सह डाटा इंट्री आपरेटर नियुक्त किए जाएंगे। उनकी नियुक्ति ग्राम पंचायत की ओर से की जाएगी। इस पद के लिए छह हजार रुपये प्रतिमाह का मानदेय मिलेगा।

ग्राम पंचायतों के मुकाबले सचिवों की संख्या कम होने के कारण वे प्रतिदिन हर ग्राम पंचायत में नहीं जा पाते, जिससे कामकाज प्रभावित होता है। अब सरकार ने यहां ग्राम सचिवालय स्थापित करने का निर्णय लिया है। ये सचिवालय सामुदायिक भवन या पंचायत भवन में स्थापित किए जाएंगे। जिन ग्राम पंचायतों में पहले से पंचायत भवन हैं, उसे ठीक किया जा रहा है। जहां पंचायत भवन नहीं है, वहां नया निर्माण चल रहा है। ग्राम सचिवालय में बैंक से जुड़े कार्य से लेकर विभिन्न प्रकार के प्रमाण पत्र भी बनवाए जा सकेंगे। सचिवालय का कार्य देखने के लिए पंचायत सहायक/एकाउंटेंट सह डाटा इंट्री आपरेटर को नियुक्त किया जाएगा।

यह होगी अर्हता

पंचायत सहायक/एकाउंटेंट सह डाटा इंट्री आपरेटर पद के लिए इंटरमीडिएट उत्तीर्ण होना जरूरी है। आवेदक उसी ग्राम पंचायत का निवासी होना चाहिए। नियुक्ति में आरक्षण नियमों का पालन किया जाएगा। जो ग्राम पंचायत जिस वर्ग के लिए आरक्षित होगी, उसी वर्ग का पंचायत सहायक भी नियुक्त किया जाएगा। यदि कोई पंचायत सामान्य श्रेणी की है तो वहां सामान्य, अनुसूचित जाति के लिए है तो अनुसूचित, अनुसूचित जनजाति के लिए है तो अनुसूचित जनजाति के लोग आवेदन कर सकते हैं। इसी प्रकार जिस वर्ग की महिला के लिए प्रधान पद आरक्षित था, उस वर्ग की महिला इस पद के लिए आवेदन कर सकेगी। आवेदक की उम्र 18 से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए। आवेदक ग्राम पंचायत के किसी भी सदस्य या सचिव का रिश्तेदार नहीं होना चाहिए।

ऐसे होगा चयन

पंचायत सहायक के चयन के लिए आए आवेदनों में से हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट के फीसद के औसत अंक को जोड़कर मेरिट बनाई जाएगी। उसी के आधार पर चयन होगा। नियुक्ति ग्राम पंचायत ही करेगी। जिला स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित तीन सदस्यीय कमेटी इसमें फेरबदल नहीं कर सकती। यह कमेटी केवल शैक्षिक योग्यता जांच सकती है।

कोरोना से मृत लोगों के आश्रित को मिलेगी प्राथमिकता

कोरोना से मृत लोगों के आश्रित को इस चयन में प्राथमिकता मिलेगी। यदि एक से अधिक आवेदक हैं तो उनके बीच भी अंकों के आधार पर फैसला किया जाएगा। जिला पंचायत राज अधिकारी हिमांशु शेखर ठाकुर का कहना है कि गांवों में ग्राम सचिवालय स्थापित होंगे। हर ग्राम पंचायत में एक-एक पंचायत सहायक को तैनात किया जाएगा। उसका चयन ग्राम पंचायत को ही करना है। जिले में इससे करीब 1294 युवाओं को रोजगार मिल सकेगा।

Edited By: Satish Chand Shukla