बोले मुलायम, घर में ही रहेगी मोहन की विरासत

अंतिम संस्कार में शामिल हुए अनेक मंत्री, उमड़ा जनसमूह

जागरण संवाददाता, देवरिया :

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं सांसद मोहन सिंह के पार्थिव शरीर का मंगलवार को बरहज के पवित्र घाघरा नदी के घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। हजारों नम आंखों के बीच उनके पोते प्रीतम सिंह (पुत्री कनकलता के बेटे) ने मुखाग्नि दी। इसके पूर्व पैतृक आवास जयनगर के लक्ष्मी निवास से अंतिम यात्रा निकली। गांव के सीवान पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने उनकी अर्थी को कंधा दिया। अपने साथी को विदा करते उनकी आंखें छलछला आई।

जयनगर स्थित उनके पैतृक आवास से जब उनकी अंतिम यात्रा निकली तो सभी के चेहरे आसुओं से भीगे हुए थे। लोग मोहन सिंह अमर रहे के नारे लगा रहे थे। माहौल उस समय और भावुक हो गया जब सपा के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने उनकी अर्थी को कंधा दिया। विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पंाडेय, कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव, कैबिनेट मंत्री ब्रह्माशंकर त्रिपाठी, बलराम यादव, राजकिशोर सिंह, पारसनाथ यादव, नारद राय, राज्यमंत्री शंखलाल माझी, एमएलसी रामसुंदर दास, विधायक गजाला लारी, विधायक प्रेमप्रकाश सिंह एवं मनबोध प्रसाद, भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सूर्य प्रताप शाही, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य रमेश सिंह सहित गोरखपुर, कुशीनगर, बस्ती, महराजगंज, कुशीनगर, संतकबीरनगर, सिद्धार्थनगर, मऊ, आजमगढ़ सहित प्रदेश के विभिन्न जनपदों से आए हजारों लोगों ने अपने प्रिय नेता को अश्रुपूरित विदाई दी। दलीय सीमाएं टूट गई थीं। भीड़ इतनी कि मंत्री से संतरी तक उसके हिस्से हो गए थे। सबके चेहरे पर मोहन सिंह के बिछड़ने का गम साफ दिखाई दे रहा था। आपस में बात करते वे मोहन बाबू की विशेषताएं गिना रहे थे।

------------------------

------------------------

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर