गोंडा : झंझरी के रामचरन ने किसान सम्मान निधि के लिए आवेदन तो कराया लेकिन, उन्हें अभी एक भी किस्त नहीं मिल सकी है। जब वह उप निदेशक कार्यालय में पहुंचे तो, उन्हें लखनऊ स्तर से समस्या का समाधान होने की जानकारी दी गई। वहीं, राम जियावन ने गलत आधार नंबर फीड होने के कारण लाभ न मिलने की शिकायत दर्ज कराई। ये तो सिर्फ बानगी है, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत ऑनलाइन निगरानी में आधार नंबर का फर्जीवाड़ा पकड़ा गया है। किसानों के आवेदन के समय में फीड कराया गया आधार नंबर ऑनलाइन ढूंढे नहीं मिल रहा है। जिले में 40 हजार किसान ऐसे चिन्हित किए गए हैं जिनके आधार नंबर आवेदन में गलत फीड हैं। जबकि 70 हजार किसानों के नाम आधार व बैंक खाते से मैच नहीं कर रहे हैं। योजना के तहत जिले में 5.03 लाख किसानों ने अपना पंजीकरण कराया है। लेकिन, लाभ सिर्फ 3.54 लाख किसानों को मिल सका है। लाभ न मिलने से किसान अफसरों के चक्कर लगा रहे हैं। इनसेट

फैक्ट फाइल

तहसील-चार

विकासखंड-16

न्याय पंचायत-166

ग्राम पंचायत-1054

राजस्व ग्राम-1820

जनगणना के अनुसार किसान- पांच लाख योजना की उपलब्धि पर एक नजर

-6.25 लाख किसानों को मिलना है लाभ

-5.03 लाख किसानों ने कराया पंजीकरण

-4.86 लाख किसानों का लॉक हुआ डाटा

-70 हजार किसानों के नहीं मैच हुए नाम

-40 हजार किसानों के आधार नंबर गलत कितने किसानों को कितनी बार मिली धनराशि

-354872 किसानों को मिली चार किस्त

-344123 किसानों को मिली तीन किस्त

-305151 किसानों को मिली दो किस्त

-162753 किसानों को मिली एक किस्त गोदाम प्रभारी के पास देखें सूची में नाम

ऐसे किसान जिनके नाम मैच नहीं हो रहे हैं या फिर गलत आधार नंबर फीड है। उनकी सूची ब्लॉक स्तर पर गोदाम प्रभारियों के पास भेजी गई है। किसान उनसे संपर्क करके बैंक पासबुक, आधारकार्ड की छायाप्रति जमा कर दें। जिससे उसे ठीक कराया जा सके।

-मुकुल तिवारी, उप निदेशक कृषि गोंडा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस