गोंडा: जनशिकायतों के निस्तारण में लापरवाही पर प्रशासन के तेवर सख्त हो गए हैं। चार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के अधीक्षकों को प्रतिकूल प्रविष्टि दे दी गई है। साथ ही जवाब मांगा गया है।

जनशिकायतों के निस्तारण की डीएम डॉ. नितिन बंसल ने समीक्षा की। इसमें पाया गया कि विभिन्न पोर्टल व जनता दर्शन में आने वाली शिकायतों के निस्तारण को लेकर अधिकारी गंभीर नहीं हैं। जिला स्तर पर रैंकिग जारी होने के बाद भी स्थिति में सुधार नहीं हो पा रहा है। वाट्सएप के माध्यम से हर दिन शिकायत की स्थिति के बारे में अवगत कराया जा रहा है। इसके बावजूद रुपईडीह, तरबगंज, कर्नलगंज व हलधरमऊ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षकों द्वारा इसके प्रति लापरवाही बरती जा रही है। डीएम ने सीएमओ को इनके खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया।

सीएमओ डॉ. मधु गैरोला ने रुपईडीह के अधीक्षक डॉ. जेपी शुक्ल, तरबगंज के अधीक्षक डॉ. जगदीश कुमार, कर्नलगंज के डॉ. सुरेश चंद्रा व हलधरमऊ के डॉ. संत प्रताप वर्मा को प्रतिकूल प्रविष्टि दी है। साथ ही समय से निस्तारण न करने का जवाब देने को कहा गया है।

हर दिन होगी निगरानी:- सीएमओ ने जन शिकायतों के निस्तारण को लेकर हर दिन निगरानी के निर्देश दिए हैं। इसके लिए कर्मियों को लगाया गया है। वह शिकायत प्राप्त होते ही संबंधित को फारवर्ड करके उसके निस्तारण के बारे में अपडेट जानकारी जुटाएंगे, जिसके आधार पर निस्तारण की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। इसमें शिथिलता बरतने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस