गोंडा : बिजली विभाग के अभियंताओं की मनमानी से आमजन को परेशानी हो रही है। शहरी क्षेत्र में बिजली सप्लाई देने के लिए ट्रांसफार्मर खुले में रखवा दिए गए हैं। जो खतरे को दावत दे रहे हैं। अभी दो दिन पहले बहराइच रोड स्थित एक ट्रांसफार्मर में आग लग गई थी। गनीमत रही कि कोई इसकी चपेट में नहीं आया। बावजूद इसके अभियंता सुरक्षा घेरा लगाने में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं।

शहर के पुलिस लाइन, आजाद नगर कॉलोनी व बहराइच रोड सहित अन्य कई मुहल्लों में खुले में ट्रांसफार्मर रखे हैं। इससे दिक्कत हो रही हैं। सार्वजनिक स्थलों व सड़क के करीब रखे हुए हैं। इन स्थानों पर लोगों की आवाजाही रहती है। बच्चे भी उसी से होकर गुजरते हैं। बेसहारा पशु भी घूमते रहते हैं। जो इसकी चपेट में आ सकते हैं। जिससे बड़ा हादसा हो सकता है लेकिन, जिम्मेदारों को इसकी फिक्र नहीं है। लोगों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। मुहल्ले वासियों का कहना है कि शिकायत की जाती है लेकिन, कोई सुनवाई नहीं होती है। अधिकारी भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। खुले में रखे ट्रांसफार्मर की वजह से अभिभावक बच्चों को घर से बाहर नहीं निकलने देते हैं।

अब तक नहीं बनी कार्ययोजना

सुरक्षा के मद्देनजर ट्रांसफार्मरों के चारों तरफ सुरक्षा घेरा लगाने के लिए अब तक कार्ययोजना नहीं बनाई गई है। इससे साफ होता है कि अभियंताओं को फिक्र नहीं है। कोई कुछ भी कहे वह मनमाने तरीके से काम कर रहे हैं। जबकि असुरक्षित रखे ट्रांसफार्मर खतरा बन सकते हैं।

बोले जिम्मेदार

विद्युत वितरण खंड के अधिशासी अभियंता अशोक यादव का कहना है कि शहरी क्षेत्र के अवर अभियंता से स्टीमेट बनाने के लिए कहा गया है। जल्द ही सुरक्षा घेरा लगवा दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप