गोंडा : लोकसभा मतदान की घड़ियां धीरे-धीरे नजदीक आती जा रही हैं। इसके लिए मतदान केंद्रों पर मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। कुछ केंद्रों पर निर्माणाधीन शौचालय, पेयजल की व्यवस्था व परिसर में छाया की कमी सिस्टम पर सवालिया निशान लगा रही है। मतदान केंद्रों पर मूलभूत सुविधाओं को मुकम्मल कराने के लिए निर्देश जारी किए गए फिर भी स्थिति जस की तस बनी हुई है। दैनिक जागरण ने क्षेत्र के कुछ मतदान केंद्रों का जायजा लिया तो सच सामने आया। पेश है रिपोर्ट-

दृश्य-एक

शिक्षा क्षेत्र बेलसर के प्राथमिक विद्यालय गढ़ी बूथ संख्या 142 पर विद्यालय के सामने ही आचार संहिता की धज्जियां उड़ाता सौभाग्य योजना का बोर्ड लगा है। विद्यालय में बिजली की व्यवस्था अब तक नहीं हो पाई है। शौचालय भी निर्माणाधीन है व परिसर में पहुंचने के लिए विशेष रूप से दिव्यांगों के लिए सुलभ रास्ता भी नहीं उपलब्ध है। हैंडपंप तो है लेकिन, पानी दूषित है।

²श्य-दो

-प्राथमिक विद्यालय सिधौटी वाईफाई जोन में स्थित यह मतदान केंद्र भवन कॉन्वेंट स्कूलों के तर्ज पर साफ-सुथरा व सुसज्जित बनाया गया है। यहां चहारदीवारी के साथ ही बिजली पानी वह शौचालय की उचित व्यवस्था उपलब्ध है। बस कमी है तो मतदाताओं के लिए छांव में ठहरने की।

दृश्य-तीन

जूनियर हाइस्कूल सेमरी कला में शौचालय निर्माण के साथ की मरम्मत कार्य चल रहा है। इस केंद्र पर बूथ संख्या तक नहीं लिखी गई है ना तो चहारदीवारी है ना ही बिजली की व्यवस्था और ना ही मतदाताओं के बैठने के लिए छाया की उपलब्धता। हालांकि भवन के पीछे पुराना शौचालय बना हुआ है। इस तपती धूप में मतदाताओं को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

जिम्मेदार के बोल

तहसीलदार तरबगंज बृजमोहन यादव ने बताया कि जांच करवाकर व्यवस्था में जल्द ही सुधार लाया जाएगा। इसको लेकर संबंधित को दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।

Posted By: Jagran