जासं, सैदपुर (गाजीपुर): महिला उचक्कों की गैंग अब नगर में एक्टिव हो चुकी है। इनके उचक्कागिरी करने का तरीका भी बेहद धौंसदार है। ये पहले महिला से उसका पर्स छीनती हैं और फिर अपने साथी को पर्स देकर वहां से भगा देती हैं और फिर इनसे पूछने पर पीड़ित को उल्टा धमकाते हुए रौब गांठती हैं। शुक्रवार को महिला की हिम्मत ने ऐसे ही दो महिला उचक्कों को गिरफ्त में लेने में पुलिस की सहायता की।

सिधौना स्थित मायके में आई उमा ¨सह पत्नी राकेश ¨सह अपने घरवालों संग शुक्रवार को नगर में सामान की खरीदारी करने आई थीं। बीएसएनएल एक्सचेंज के सामने स्थित दुकान से कपड़े खरीदकर जैसे ही वो आगे बढ़ीं वहां पहले से ही मौजूद एक महिला ने धक्का देते हुए उनके झोले से उनका पर्स निकाल लिया और आगे बढ़ गई। इधर उन्हें कुछ निकाले जाने की शंका हुई तो उन्होंने झोला देखा। पर्स गायब देख पैरों तले जमीन खिसक गई। पर्स में करीब 8 हजार रुपये व सोने की एक बाली थी। इसके बाद वो पीछे गई और उक्त महिला से बोला कि वो उनका पर्स ली है तो महिला ने उल्टा उन्हें धमकाते कहा कि अगर पर्स नहीं मिला तो उन्हें थप्पड़ से मारेगी। इसके बाद उमा थोड़ी झेंप गई और वापस जाने लगीं। तभी आसपास के लोगों ने भी उमा का समर्थन किया और कहा कि ये महिला ऐसी ही है। इसके बाद उसे पकड़कर तुरंत चौकी इंचार्ज राकेश त्रिपाठी को सूचना दी गई। मौके पर पहुंचे इंचार्ज ने महिला से सख्ती से पूछताछ की तो उसने बताया कि उसने पर्स अपनी बेटी को देकर औड़िहार स्टेशन ट्रेन पकड़ने के लिए भेज दिया। इसके बाद एसआई फूलचंद पांडेय महिला को लेकर तुरंत स्टेशन पहुंचे और ट्रेन में चढ़ने जा रही उसकी बेटी को पकड़कर थाने लाए और पर्स महिला को वापस किया। पूछताछ में महिला ने अपना नाम वैजयंती निवासिनी युसुफपुर मुहम्मदाबाद बताया। उनके पास एक छोटा मासूम बच्चा भी था जिससे किसी को उन पर शक न हो। फिलहाल दोनों को थाने पर बिठाया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस