जासं, सेवराई (गाजीपुर) : महाराष्ट्र के औरंगाबाद में सिविल जज जूनियर डिविजन बनी हुस्ना रुस्तम खान के पहली बार पैतृक गांव मनिया आगमन पर लोगों ने फूल मालाओं एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर उनका स्वागत किया। नजीर हुसैन फाउंडेशन के चेयरमैन व राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर प्रदेश प्रवक्ता अहमद शमशाद ने उन्हें प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। कहा कि किसी भी माता-पिता की आरजू यही होती है कि उनके बच्चे पढ़ लिख कर सम्मान भरी जिदगी गुजर बशर करें। हुस्ना रुस्तम खान से अन्य बालिकाओं को सीख लेनी होगी। बलवंत सिंह सिकरवार, जावेद अहमद खान, राजू खान, मारकंडेय चौरसिया, अनिल गुप्ता आदि थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस