जागरण संवाददाता, भांवरकोल (गाजीपुर) : ग्राम पंचायत शेरपुर में बुधवार की शाम पंचायत सदस्यों की बैठक में उमलेश उपाध्याय का चयन कार्यवाहक ग्राम प्रधान के रूप में किया गया। यह पद लगभग छह माह से खाली था। तीन के मुकाबले आठ मतों के बहुमत से उनका चयन हुआ।

प्रभारी खंड विकास अधिकारी की देखरेख में आयोजित बैठक में ग्राम पंचायत के कुल 15 सदस्यों के सापेक्ष 11 उपस्थित हुए। वार्ड 10 की ग्राम पंचायत सदस्य उमलेश उपाध्याय के नाम का प्रस्ताव सुधांशु राय तथा अनुमोदन राजेश राय, ग्राम पंचायत सदस्य ऊषा देवी के नाम का प्रस्ताव शशिभूषण राय तथा अनमोदन दीनानाथ द्वारा किये जाने के परिणाम स्वरूप मत विभाजन की स्थिति बन गई। उमलेश उपाध्याय के पक्ष में आठ तथा उनकी प्रतिद्वंदी उषा देवी के पक्ष में मात्र तीन पंचायत सदस्यों ने ही अपना मत दिया। ग्राम प्रधान पद पर कोई चुनाव होने तक की अवधि के लिए कार्यवाहक ग्राम प्रधान पद हेतु उमलेश उपाध्याय का चयन का प्रस्ताव बहुमत से पारित कर दिया गया। उच्च न्यायालय में लगाई थी अर्जी

ग्राम प्रधान शेरपुर मंजू राय का निधन बीते 20 जुलाई में हो गया था। तत्कालीन जिलाधिकारी के. बालाजी ने ग्राम पंचायत सदस्य चंद्र भूषण राय को कार्यवाहक ग्राम प्रधान नामित कर दिया। इस आदेश के खिलाफ उमलेश राय ने उच्च न्यायालय में यह कहते हुए अर्जी लगाई कि ग्राम प्रधान पद हेतु आरक्षित महिला के पद पर पुरुष को नामित करना असंवैधानिक है। उच्च न्यायालय द्वारा जारी दिशा निर्देश के अनुपालन जिलाधिकारी ओमप्रकाश आर्य ने यह बैठक कराई थी। ये थे शामिल

ग्राम पंचायत सदस्य जय प्रकाश राय, उमलेश उपाध्याय, ऊषा देवी, कलिता, निर्मला, फूला देवी, सुधांशु राय, राजेश राय, शशिभूषण राय, दीनानाथ योगेंद्र। अध्यक्षता पंचायत के वरिष्ठ सदस्य जयप्रकाश राय ने किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप