जासं, गाजीपुर : पत्रकार व आरएसएस कार्यकर्ता हत्याकांड का 50 हजार का इनामिया मुख्य आरोपित राजू यादव वर्तमान में आजमगढ़ जेल में बंद है। इसका पर्दाफाश तब हुआ जब बलिया के रसड़ा कोतवाली में बाइक चोरी के मामले में पकड़ा गया और पहचान छिपाकर जमानत की अर्जी लगाया। छानबीन में सोमारू यादव के नाम से लगी आइडी फर्जी निकली व जब क्राइम ब्रांच व स्थानीय पुलिस टीम ने पूरी गहनता से जांच की तो राजू यादव होने का प्रमाण मिला। इसकी जानकारी होते ही पुलिस अधीक्षक डा. अरविद चतुर्वेदी ने बलिया एसपी से बात करने के साथ आरोपित को जनपद लाने की कार्रवाई शुरू कर दी है।

21 अक्टूबर 2017 को करंडा थाना क्षेत्र के ब्राह्मणपुरा गांव की चट्टी पर तीन बदमाशों ने सुबह 7.50 बजे पत्रकार व आरएसएस कार्यकर्ता राजेश कुमार मिश्रा की गोली मारकर हत्या कर दी थी, जबकि छोटे भाई अमितेश मिश्रा गंभीर रूप से घायल हो गए थे। हत्याकांड के करीब डेढ़ माह बाद पुलिस ने राजू गैंग के तीन सदस्यों को धर-दबोचा था। इसमें बिहार प्रांत के भभुआ जिला के चैनपुर थाने के रामगढ़ निवासी अजीत यादव व हाटा गांव निवासी झनकू यादव के साथ ही चंदौली जिला के धीना थाने के महुआ प्रकाशपुर निवासी सुनील यादव शामिल था। मुख्य आरोपित 50 हजार का इनामिया मटखन्ना निवासी राजू यादव व गोवर्धन उर्फ मंटू यादव के साथ ही पवन यादव निवासी खुटहां थाना शादियाबाद दूसरी बाइक से पुलिस पर फायरिग करते हुए भाग निकले थे। गिरफ्तार तीनों आरोपितों ने स्वीकार किया था कि राजू यादव के कहने पर ही राजेश मिश्रा व उनके भाई अमितेश मिश्रा की हत्या की योजना बनाई गई थी। फिलहाल पुलिस को मुख्य आरोपित के आजममगढ़ जेल में बंद होने की इनपुट मिलते ही उसे गाजीपुर लाने की कार्रवाई तेज कर दी गई है।

पत्रकार व आरएसएस कार्यकर्ता राजेश मिश्रा की हत्या के आरोपितों का सुराग लगाने व उसकी धरपकड़ के लिए एसटीएफ भी लगी थी, लेकिन सफलता नहीं मिली थी।

वर्जन---

-क्राइम ब्रांच व पुलिस टीम ने जब राजू यादव द्वारा लगाई गई फर्जी आइडी को विकसित किया गया तो मामला खुलकर सामने आया। इस संबंध में बलिया एसपी से भी बात की गई है। उसको गाजीपुर लाने की कोशिश की जा रही है।

- डा. अरविद चतुर्वेदी, एसपी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप