जासं, गाजीपुर : दीपावली पर तोरण अपने घरों के द्वार की रौनक बढ़ाएंगे। रंग-बिरंगे तोरण, आर्टिफीशियल फूल, आकर्षक लतर एवं तरह-तरह के फूलों से बाजार सज चुके हैं। लोग घरों के रंगों के साथ इसका मिलान कर रहे हैं। हालांकि अभी बाजार में तेजी नहीं है लेकिन खरीदारी शुरू हो चुकी है। दरअसल, इसकी खरीदारी दीपावली के बिलकुल करीब होती है जब अपने आशियाने की साफ-सफाई का काम पूरा हो जाता है।

दीपावली के अवसर पर लोग अपने घरों को सजाने के लिए मेन गेट से लेकर स्टोर तक कोई कसर नहीं छोड़ते। हर व्यक्ति का सपना होता है कि उसका घर कुछ अलग दिखे और कुछ अलग दिखने के लिए घरों में दीए, कैंडिल, झालर, लतर, प्लास्टिक सूरजमुखी फूल, स्टिक वाल एवं बोन साही आदि को लगाने में लोग खासी रकम खर्च कर देते हैं। अगर पूरी सजावट के बाद घर के दरवाजों को छोड़ दिया जाए तो बात वाजिब न होगी, इसलिए दरवाजों को सजाने के लिए बाजार में तरह-तरह के तोरण बाजार में आ चुके हैं। महिलाएं बाजार में जाकर अपने-अपने घरों के रंगों से मैच करता हुआ तोरण देख रही हैं। चूंकि तोरण लगाने का समय सबसे अंतिम में आता है इसलिए इसकी खरीदारी में अभी तेजी नहीं आई है। लोग एडवांस राशि जमा कर इसे सुरक्षित रखवा दे रहे हैं।

बदलते दौर ने बदले तोरण

लोग अपने घरों में पहले आम के पत्तों के तोरण लगाते थे लेकिन वे एक ही दिन की रौनक हुआ करते थे। बदलते दौर के साथ अब आम के पत्तों की जगह प्लास्टिक के पत्तों का इस्तेमाल किया जाने लगा है। इन तोरणों में रेशम के धागों के अलावा प्लास्टिक के पत्तों का इस्तेमाल किया गया है। कुछ में प्लेन पत्ते तो कुछ में पत्तों पर गणेश और लक्ष्मी जी की छोटी-छोटी आकृतियों को लगाया है। साथ ही कलश और रुद्राक्ष के साथ छोटी-छोटी घंटियों को भी लगाकर कुछ अलग लुक देने का प्रयास किया गया है।

अभी नहीं आई है तेजी

आमघाट के तोरण व्यवसायी लालजी ने बताया कि अभी फूलों की खरीदारी में तेजी नहीं आई है। लेाग दीपावली से एक-दो दिन पूर्व ही खरीदारी करते हैं। हालांकि कुछ लोगों ने तोरण सहित अन्य आइटम की खरीदारी शुरू की है लेकिन अभी रफ्तार धीमी है। ---------------- दाम एक नजर में .. - तोरण - 100 - 150 रुपये

- लतर - 160 - 180 रुपये

- सूरजमुखी - 300 रुपये

- प्लासम - 150 रुपये

- स्टिक वाल - 120 रुपये

- फाउंटेन - 220 रुपये

- बोन साही - 180 रुपये

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप