जागरण संवाददाता, गाजीपुर : देश के महान देशभक्त व स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती रविवार को जगह-जगह मनाई गई। टैक्सी स्टैंड स्थित उनकी प्रतिमा पर रविवार को माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की गई। देश की एकता और अखंडता की रक्षा का संकल्प लिया गया।

नेताजी सुभाषचंद्र बसु स्मारक समिति की ओर से टैक्सी स्टैंड पर अध्यक्ष युधिष्ठिर तिवारी ने नेताजी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने नेताजी के राष्ट्रवाद, क्रांतिकारी विचारों एवं देश के प्रति उनके भावी कार्यक्रमों की चर्चा कर उनको स्मरण किया। विजय कुमार मधुरेश, डा. व्यासमुनि राय, चंद्रपति यादव, ओम नारायन प्रधान, रामपूजन सिंह, जितेंद्र नाथ घोष, अरविद मिश्रा, श्रीकांत पांडेय, हनुमान आदि थे। संचालन कवि दिनेश चंद्र शर्मा ने किया। इसी क्रम में भाजपा कार्यकर्ताओं ने टैक्सी स्टैंड स्थित नेताजी सुभाषचंद्र बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह ने कहा कि स्वाधीनता संग्राम में उनकी निर्णायक भूमिका रही। उनके योगदान का यह राष्ट्र सदैव ऋणी रहेगा। जिला प्रभारी अशोक मिश्रा, जिला महामंत्री प्रवीण सिंह, दयाशंकर पांडेय, अखिलेश सिंह, शैलेश राम आदि थे। वहीं, सपा कार्यकर्ताओं ने समता भवन पर नेताजी सुभाषचंद्र बोस के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि की। जिलाध्यक्ष रामधारी यादव ने कहा कि वह महान देशभक्त थे। उनमें देशभक्ति का जज्बा कूट-कूट कर भरा था। पूर्व सांसद जगदीश कुशवाहा ने कहा कि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान उन्होंने अंग्रेजों के विरूद्ध लड़ाई को तेज करने के लिए आजाद हिद फौज का गठन किया। पूर्व मंत्री जै किशन साहू, अशोक कुमार बिद, आत्मा यादव, अरुण कुमार श्रीवास्तव, कमलेश यादव, दिनेश यादव, विभा पाल आदि थे। संचालन जिला उपाध्यक्ष कन्हैया लाल विश्वकर्मा ने किया। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के सदस्यों ने नेताजी की जयंती पर देश की आजादी, एकता और अखंडता की रक्षा करने का संकल्प लिया। जिलाध्यक्ष अरुण कुमार श्रीवास्तव ने टैक्सी स्टैंड स्थित उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। गुलाब लाल श्रीवास्तव, संतोष श्रीवास्तव, सत्यप्रकाश श्रीवास्तव आदि थे।

शौर्य दिवस के रूप में मनी नेताजी की जयंती

मलसा : नेताजी सुभाष ग्रामोउत्थान सेवा संस्थान ताड़ीघाट की ओर से नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती शौर्य दिवस के रूप में मनाई गई। कार्यक्रम का उद्घाटन साहित्य चेतना समाज के संस्थापक अमरनाथ तिवारी अमर ने किया। कमलेश प्रकाश सिंह, राकेश सिंह, हर्ष सिंह, शंकर गोपाल चौबे आदि थे। अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष जयप्रकाश सिंह व संचालन मंत्री डा. प्रेमशंकर सिंह ने किया।

Edited By: Jagran