जासं, गाजीपुर : धनराशि मिल जाने के बाद भी प्रधानमंत्री आवास न बनवाने वाले लाभार्थियों पर मुख्य विकास अधिकारी हरिकेश चौरसिया ने सख्त रुख अख्तियार किया है। ऐसे 262 लाभार्थियों को चिह्नित कर उनसे योजना की राशि रिकवर कर ली गई है। इसमें से 58 लाभार्थियों ने रुपये निकाल लिए थे, उनसे जमा करवा लिया गया। शेष के रुपये अभी बैंक में ही थे, उसे वापस ले लिया गया। यही नहीं उनके खिलाफ कार्रवाई के लिए संबंधित थानों में तहरीर भी दी गई है।

पीएम आवास को लेकर महकमे ने जिस तरीके से यह कार्रवाई की है उससे औरों के भी होश उड़े हुए हैं। यह सभी आवास 2016-17 व 2017-18 के हैं। इन सभी लाभार्थियों के खाते में आवास का पैसा भेज दिया गया था लेकिन इन्होंने आवास नहीं बनवाया। जिला से लेकर ब्लाक स्तर तक व संबंधित सचिव द्वारा बार-बार चेतावनी देने के बाद भी इन पर कोई फर्क नहीं पड़ा। यहां तक कि 2018-19 के लाभार्थियों का शत-प्रतिशत आवास बन गया। इस पर सख्ती करते हुए सीडीओ से ऐसे लाभार्थियों को चिह्नित कर उनसे योजना की राशि वापस लेने का निर्देश दिया। इसके बाद बहुत से लाभार्थियों ने आनन-फानन में आवास बनना शुरू कर दिया लेकिन 261 लाभार्थी जस के तस पड़े रहे। इस पर उनसे योजना की राशि रिकवर कर ली गई, जिससे उनमें हड़कंप मचा हुआ है। --- किस ब्लाक में कितनी कार्रवाई

- भांवरकोल- 02, देवकली- 11, सदर- 03, जखनियां- 11, कासिमाबाद- 161, मनिहारी- 02, मरदह- 05, मुहम्मदाबाद- 01, सादात- 11, सैदपुर- 03, बाराचवर- 02, बिरनो- 46 और जमानियां में 02 लाभार्थी। -- उसी ब्लाक के लाभार्थियों को मिलेंगे यह आवास

- पैसे मिलने के बाद भी अब तक आवास न बनवाने का मतलब है कि वह इसके पात्र हैं ही नहीं। अब यह आवास उसी ब्लाक के उन लाभार्थियों को दिया जाएगा जो उस समय पात्र रहते हुए भी इससे वंचित रह गए थे। - हरिकेश चौरसिया, सीडीओ।

Posted By: Jagran