जासं, मुहम्मदाबाद (गाजीपुर) : वाराणसी हल्दिया जल-मार्ग पर मालवाहक कार्गो को पीपा पुल के पास घंटों इंतजार करना पड़ा। लोक निर्माण विभाग की ओर से तैनात मल्लाह मजदूरों की मनमानी के चलते बुधवार की शाम छह बजे पहुंचा 16 कंटेनरों से लदा रवींद्रनाथ टैगोर मालवाहक कार्गो जहाज दूसरे दिन गुरुवार की दोपहर कोलकाता के लिए रवाना हो सका जबकि पीपा पुल को सुबह आठ बजे ही खोल दिया जाना था।

कार्गो जहाज बच्छलपुर पीपा पुल के पास शाम को पहुंचकर लंगर डाल दिया। दूसरे दिन सुबह जल्द से जल्द पुल खोलकर जहाज को रवाना करना था। इसकी जानकारी पर मेठ अशोक राय ने मजदूरों को दे दी कि वह सुबह आठ बजे तक पुल पर आ जाएं। बावजूद इसके दिन में 11 बजे तक पुल खोलने के लिए केवल मेठ अशोक राय व विजय यादव ही पहुंच सके थे। मजदूरों के न पहुंचने से कार्गो दूसरे दिन दोपहर करीब 12 बजे आगे के लिए रवाना हुआ। पुल खोलने में विलंब के चलते मालवाहक को आगे बढ़ने के लिए बेवजह इंतजार करना पड़ा। इस संबंध में कार्गो की पायले¨टग में लगे मनोज कुमार ने बताया कि बुधवार को सुबह आठ बजे ही उन्हें चोचकपुर घाट पर पुल खुला मिला तो वह तेजी से आगे आ गए, अगर यहां भी पुल समय से खुल गया होता तो वह काफी आगे पहुंच जाते। बताया कि पुल न खुलने से उन्हें आगे जाने में बेवजह विलंब हुआ। कार्गो के परिचालन में मास्टर गोपाल घोष, चालक जीगू विस्वास, सुखानी गणेश जाना के अलावा अन्य तीन सहायक मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप