जासं, गाजीपुर : विद्युत विभाग में हुए पीएफ घोटाले को लेकर कर्मचारियों का गुस्सा थमने का नाम नहीं ले रहा है। विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति ने बुधवार को बड़ी बाग स्थित अधीक्षण अभियंता कार्यालय परिसर में धरना-प्रदर्शन कर पॉवर कारपोरेशन के चेयरमैन को तत्काल बर्खास्त कर गिरफ्तार करने की मांग उठाई। 13 नवंबर की रात में सैकड़ों विद्युतकर्मी अपनी मांगों के समर्थन में प्रदेश मुख्यालय निकलने वाली रैली में शामिल होने के लिए कूच किए।

समिति के संयोजक निर्भय नारायण सिंह ने आरोप लगाया कि घोटाले को छुपाने के लिए ट्रस्ट की हर तिमाही बैठक 30 महीने तक नहीं की गई। ऐसी परिस्थिति में सरकार अपने दायित्व से विमुख नहीं हो सकती और कर्मचारियों के भुगतान की जिम्मेदारी लेते हुए सरकार को गजट नोटिफिकेशन जारी करना चाहिए। संघर्ष समिति ने मुख्यमंत्री से बिजली कर्मचारियों के हित में प्रभावी हस्तक्षेप करने की अपील की है। अधीक्षण अभियंता एसएन शुक्ला ने कहा कि राजधानी सहित प्रदेश भर में जिला मुख्यालयों पर नौवें दिन बिजली कर्मचारियों व अभियंताओं का विरोध-प्रदर्शन आगे भी जारी रहेगा। सभा में चंद्रपाल सिंह, मनीष कुमार, महेंद्र मिश्रा, एके चौहान, शिवम राय, अभिषेक राय, वीके राव, विजय शंकर राय, अरविंद कुशवाहा, सुरेश सिंह, संजय यादव, प्रवीण सिंह, अजय विश्वकर्मा, भानुप्रताप कुशवाहा, जयप्रकाश, संतोष कश्यप आदि थे। अध्यक्षता आशीष चौहान ने की।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप