जागरण संवाददाता, गाजीपुर: रेल लाइन बिछाने के लिए अधिग्रहित की गई जमीन का उचित मुआवजा न मिलने से आक्रोशित किसान 13 अक्टूबर दिन शनिवार को सोनवल से ताड़ीघाट-मऊ रेल खंड से प्रभावित गांवों में किसान जागरण यात्रा निकालेंगे। रेल प्रभावित किसान संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष चंद्रिका कुशवाहा ने आरोप लगाया कि बिना सहमति के जिला प्रशासन किसानों की जमीन जबरिया कब्जे में लेने की कोशिश कर रहा है।

आरोप मढ़ा कि किसानों के हित में बने 2013 के भूमि अधिग्रहण कानून को 2015 से सर्किल रेट न बढ़ाकर एवं प्रभावित क्षेत्र में जमीन की खरीद-विक्री पर रोक लगाकर निष्प्रभावी बना देना चाहता है। इतना ही नहीं किसानों के साथ कई तरह की धोखेबाजी की गई है। लेखपाल एवं राजस्व कर्मचारी अफवाह व दहशत का माहौल बना रहे हैं। अधिकारी किसानों की जमीन पर गैर कानूनी अतिक्रमण करने की कोशिश कर रहे हैं। चेतावनी दी कि किसानों से बिना वार्ता एवं सहमति के प्रशासन को जमीन नहीं छीनने देंगे। जागरण यात्रा का नेतृत्व अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव ईश्वरी प्रसाद कुशवाहा, जिला संयोजक विजय बहादुर ¨सह, मोती प्रधान, प्रमोद कुशवाहा, आजाद यादव, मनोज यादव, मनोज जायसवाल, शिवचोलन कुशवाहा आदि करेंगे। यात्रा ¨झगुरपट्टी पहुंचकर रात्रि विश्राम करेगी और 14 अक्टूबर को बंजारीपुर से आगे बढ़ेगी।

Posted By: Jagran