जासं, गाजीपुर : खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन द्वारा चलाए गए तीन दिवसीय अभियान के दौरान पाए गए मिलावटखोर अब विभागीय रडार पर रहेंगे। विभाग के अधिकारी बार-बार उनके खाद्य पदार्थों को चेक करते रहेंगे ताकि वे अगली बार मिलावट कर ग्राहकों को न ठग सकें। साथ ही उनसे लिए गए नमूने को जांच के लिए प्रदेश मुख्यालय स्थित प्रयोगशाला में भेजा जाएगा।

बाजार में मिलावटखोरी को देखते हुए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की टीम ने सभी तहसीलों में फूड सेफ्टी वाहन भेज कर खाद्य-पदार्थ का नमूना लेकर उसकी जांच की। इसमें मिलावट पाए जाने पर व्यापारियों को जागरूक करने के साथ भविष्य में ऐसा न करने की सलाह दी। साथ में यह भी बताया कि खाद्य-पदार्थ बनाते समय उसमें किन-किन वस्तुओं की और कितनी मात्रा में मिलाएं जो हानिकारक न हो। अब उन व्यापारियों पर खास नजर रखी जाएगी जिनके पास से खाद्य सामग्री में मिलावट पाई गई।

समय-समय पर की जाएगी जांच

: वाहन लाने का मतलब व्यापारियों को जागरूक करना था कि कौन-कौन सी वस्तुओं को मिलाने से खाद्य-पदार्थ हानिकारक हो जाता है। साथ ही खाद्य पदार्थ में किस वस्तु को नहीं मिलाना है। इस दौरान जो व्यापारी मिलावट करने वाले पाए गए हैं उनको विभाग अपने रडार पर रखेगा और समय-समय पर उनकी खाद्य-सामग्री की जांच की जाएगी। - अजीत कुमार मिश्र, अभिहित अधिकारी, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस