जासं, जमानियां (गाजीपुर) : प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य योजना) का मकसद हर घर तक बिजली मुहैया कराना है लेकिन योजना सच्चाई से कोसों दूर है। इसका जीता जागता उदाहरण स्थानीय विकास खंड के बघरी गांव की बिद बस्ती है। विभाग ने बस्ती में पोल, तार, ट्रांसफार्मर लगाकर लोगों के घरों में मीटर लगा दिए लेकिन कनेक्शन नहीं दिया। करीब 50 घर ऐसे हैं जहां कनेक्शन तो नहीं है लेकिन उनको पांच सौ से एक हजार रुपये के बीच का बिल दे दिया है। विभाग की इस करतूत से ग्रामीण आक्रोशित हैं। इस संबंध में ग्रामीणों ने समाधान दिवस पर उपजिलाधिकारी को पत्रक सौंप कर समस्या के समाधान की गुहार लगाई है।

बिद बस्ती में घरों को रौशन करने के लिए विभाग ने नौ माह पूर्व बिजली का पोल लगवाया। तार भी दौड़ाया, ट्रांसफार्मर भी लगवाया। इतना ही नहीं उपभोक्ताओं के घर पर मीटर भी लगा दिया गया लेकिन करेंट नहीं दौड़ाया गया। बस्ती के लोग बिजली का इंतजार करते रहे पर बिजली की आपूर्ति तो हुई नहीं अलबत्ता बिल पहुंच गया। इसको लेकर बस्ती के लोग पूरी तरह परेशान हैं कि जब बिजली नहीं तो फिर बिल कैसा।

शाम होते ही छा जाता है घरों में अंधेरा

बघरी गांव के बिद बस्ती में बिजली के अभाव में शाम होते ही पूरी तरह अंधेरा छा जाता है। लोग अपने घरों में दुबक जाते हैं। मोमबत्ती जलाकर बस्ती के लोग रात बिताते हैं। विभाग की इस व्यवस्था को देख यह प्रतीत होता है कि बिजली विभाग ने जिन लोगों के घरों को कनेक्शन दिया है, उनके यहां बिजली आपूर्ति अब अगले साल ही संभव होता नजर आ रहा है।

नंबर बढ़ाने के लिए बांटे कनेक्शन

बिजली विभाग ने सौभाग्य योजना के तहत नंबर बढ़ाने के लिए कनेक्शन बांट दिये। यही वजह है कि अभी तक तमाम नए कनेक्शन होल्डर्स के घर बिजली की आपूर्ति शुरू नहीं हो पायी है जबकि, कनेक्शन मिलते ही बिजली आपूर्ति किए जाने का प्रावधान है। जमानियां तहसील में 35 हजार घरों को कनेक्शन दिए जाने का लक्ष्य है, जिसमें से 32 हजार के करीब कनेक्शन अधिकारियों ने बांटा है।

बिद बस्ती में शुरू होगी आपूर्ति

बघरी गांव के बिद बस्ती में एलएनटी विभाग द्वारा विद्युतीकरण कर मीटर लगाया गया है। इसके बाद घरों में आपूर्ति शुरू होने की रिपोर्ट दी गयी। इसके आधार पर ही बिजली बिल निर्गत किया गया है। हालांकि विभाग को इसका सत्यापन किया जाना चाहिए था। ऐसी स्थिति में उपभोक्ताओं के बिजली बिल को माफ किया जाएगा और मीटर में आपूर्ति देकर घर को रौशन किया जाएगा।

- वीके राव, उप खंड अधिकारी जमानियां विद्युत केंद्र।

ग्रामीणों ने साझा किया दर्द

फोटो- 26सी

-बस्ती में कनेक्शन नहीं होने से रात्रि में अंधेरा हो जाता है जबकि गांव में बिजली रहती है। विभाग ने मीटर भी लगा दिया। लेकिन आज तक आपूर्ति शुरू नहीं हुई और बिल जमा करने का मैसेज भी मोबाइल पर विभाग ने भेज दिया।

- मीना देवी। फोटो- 27सी

-बस्ती में जब पोल गड़ने लगे और तार खींचने लगा तो उम्मीद जगी की अब अंधेरे से मुक्ति मिलेगी लेकिन विभाग ने उम्मीद पर पानी फेर दिया। घरों में विभाग द्वारा लगाया गया मीटर घर के शोभा बढ़ाने का काम आ रहा है। - सरोज देवी। फोटो- 28सी

- सरकार द्वारा चलाया गया सौभाग्य योजना के नाम पर बिजली विभाग केवल खानापूर्ति कर रहा है। बस्ती में पोल, तार और मीटर लगाकर विभाग ट्रांसफार्मर से आपूर्ति देना भूल गया। लेकिन बिल भेजना नहीं भूला। - भागमनी देवी। फोटो- 29सी

- आजादी के बाद से ही बस्ती में अंधेरा छाया हुआ है। बिजली घर मे जले यह देखने को आंख तरस गयी है। विभाग द्वारा घर में लगाया गया मीटर शो पीस बना हुआ है। विभाग आपूर्ति देकर बिल ले तो बात हो बगैर बिजली हम बिल नहीं देंगे। - लीलावती देवी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप