जासं, मुहम्मदाबाद (गाजीपुर) : भाजपा विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड में सीबीआइ न्यायालय से निर्दोष साबित होने के बाद शुक्रवार की सुबह करीब 9:30 बजे मुख्तार अंसारी के बहनोई व पूर्व नपा चेयरमैन एजाजुलहक अंसारी करीब 14 वर्ष बाद जिला जेल से रिहा हो गए। उनसे मिलने और उन्हें देखने वालों का तांता लगा रहा।

रिहाई के बाद पूर्व विधायक सिबगतुल्लाह अंसारी, नपा अध्यक्ष समीम अहमद व मन्नू अंसारी उन्हें वाहन से लेकर आवास पर पहुंचे। यहां माहौल काफी खुशनुमा हो गया। दोपहर करीब 1:30 बजे उन्हें व्हील चेयर से आवास के नजदीक जामा मस्जिद में लाया गया। जहां उन्होंने नमाज अदा की।

कृष्णानंद राय हत्याकांड के तीन दिन बाद किया था आत्मसमर्पण

- 29 नवंबर 2005 को भाजपा विधायक कृष्णानंद राय सहित उनके छह साथियों की भांवरकोल थाने के बसनिया चट्टी के पास हत्या हुई थी। हत्याकांड के तीसरे दिन ही एजाजुलहक अंसारी ने कोर्ट में सरेंडर किया था। तब से वह जेल में थे। जेल में रहते हुए वह मुहम्दाबाद नगर पालिका परिषद चेयरमैन का चुनाव भी जीते थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस