जागरण संवाददाता, गहमर (गाजीपुर) : स्थानीय गांव के गोविद राव पट्टी निवासी विमलेश्वर सिंह को लुटेरों ने ईएमयू पैंसेंजर ट्रेन में बिहार के बनाही स्टेशन के पास लूट कर ट्रेन से धक्का दे दिया। इससे उनकी मौत हो गई। इससे स्वजनों में कोहराम मच गया। स्थानीय रेलवे पुलिस ने शव का पीएम कराने के पश्चात स्वजनों को सौंप दिया। लूट के वक्त विमलेश्वर के साथ उनके पुत्र-पुत्री भी साथ में थे।

विमलेश्वर सिंह मुन्ना (45) अपने 10 वर्षीय पुत्र राजा और 12 वर्षीय पुत्री निली के साथ एक विवाह समारोह में शामिल होने अपने ससुराल बिहार प्रांत के खरौनी (बिहिया) जनपद भोजपुर जा रहे थे। एक ही सीट पर तीनों बैठे थे। बिहार के बनाही स्टेशन के समीप बुधवार की देर शाम करीब सात बजे ट्रेन पहुंची। तभी एक लुटेरा आया और विमलेश्वर सिंह से अटैची लेकर भागने का प्रयास किया। इस पर विमलेश्वर ने उसे पकड़ लिया और दोनों में हाथापाई शुरू हो गई। मौके की नजाकत को भांपते हुए लुटेरे के अन्य साथी विमलेश्वर को ट्रेन से नीचे धक्का देकर गिरा दिए। इससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। इससे दोनों बच्चों चीखने-चिल्लाने लगे। बोगी में बैठे लोगों ने इसकी सूचना आरपीएफ को दी। दोनों से आरपीएफ ने पूछताछ कर उसके मामा के नंबर पर काल कर बुलाया। विमलेश्वर की पत्नी किरन सिंह पहले से ही अपने मायके पहुंची हुई थी। पति की हत्या की सूचना मिलते ही वह रोने-विलखने लगी। विवाह और खुशी का माहौल गम में बदल गया। रोते-बिलखते पत्नी व बच्चे गहमर पहुंचे। इनका अंतिम संस्कार गुरुवार को गांव के नरवा गंगा घाट पर किया गया।