जागरण संवाददाता, गाजीपुर : रायल्टी व जीएसटी समाप्त करने और सरकार के मनमाने रवैए से ईंट व्यवसाय पर खराब प्रभाव पड़ रहा है। इससे नाराज भट्ठा संचालकों ने रविवार को जनपद ईंट निर्माता समिति के बैनर तले भुतहियाटांड स्थित एक होटल में बैठक आयोजित कर संघर्ष के लिए रणनीति बनाई। इस मौके पर वक्ताओं ने आह्वान करते हुए कहा कि लखनऊ में 24 सितंबर को आयोजित धरना-प्रदर्शन में पहुंचकर मांग के प्रति संघर्ष तेज करे।

प्रदेश के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रतन श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदूषण सहमति के बिना भट्ठों का चलना असंभव हो जाएगा। रायल्टी व रायल्टी से जीएसटी समाप्त करने और स्वच्छता प्रमाण-पत्रों से भट्ठों को छूट दिया जाए। प्रदेश सरकार द्वारा रायल्टी माफ करने का वादा पूर्ण नहीं करने से संचालकों ने नाराजगी व्यक्त की है। मंडल प्रभारी अनिल ¨सह ने व्यवसाय में आने वाली समस्याओं पर प्रदेश सरकार तथा केंद्र सरकार के सौतेले व्यवहार की चर्चा की। अध्यक्ष रजनीकांत राय ने कहा कि इस व्यवसाय में लागत के हिसाब से बिक्री रेट नहीं मिल पा रहा है। महामंत्री लल्लन ¨सह ने कहा कि बीते वर्ष सीएम ने भट्ठों से रायल्टी माफ करने का वादा किया था लेकिन कोई छूट आज तक नहीं मिल पाई। यही नहीं, रायल्टी से जीएसटी समाप्त करने व स्वच्छता प्रमाण-पत्र से छूट देने की मांग की। सभी संचालकों का आह्वान किया कि अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर लखनऊ में आयोजित होने वाले धरना प्रदर्शन को सफल बनाएं। इस मौके पर श्यामनारायन ¨सह, चंद्र भूषण राय, मुन्ना यादव, रामबचन यादव, गोपाल राय, संजय ¨सह, विनोद चौहान, मोहम्मद आसिफ, प्रमोद पांडेय, मनोज ¨सह, अमरजीत यादव, संजय ¨सह आदि मौजूद रहे। अध्यक्षता बृजलाल राय व संचालन लल्लन ¨सह ने किया।

Posted By: Jagran