जासं, गाजीपुर : प्रयागराज विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले 842 छात्र-छात्राओं को आधा दर्जन से अधिक रोडवेज की बसों से बुधवार को जनपद लाया गया। जिला अस्पताल में तैनात चार डाक्टरों की टीम ने प्रत्येक की स्वास्थ्य जांच व थर्मल स्क्रीनिग करने के साथ क्वारंटाइन के लिए घर भेज दिया। इस दौरान एहतियात के तौर पर जिला अस्पताल व आस-पास पुलिस टीम मुस्तैद रही।

कोरोना महामारी के दौरान बड़े पैमाने पर गैर जनपदों में रहकर शिक्षा ग्रहण करने वाले छात्र व छात्राओं को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था। उनकी इस विवशता को देखते हुए शासन की ओर से सूचीबद्ध तरीके से सभी को लाने की प्रक्रिया शुरू की गई। इसी क्रम में आधा दर्जन से अधिक रोडवेज बसों से 842 छात्र-छात्राओं को जनपद लाया गया। जांच में सभी के स्वस्थ मिलने पर उन्हें 14 दिनों तक क्वारंटाइन करने के लिए घर भेज दिया गया।

-

26 रिपोर्ट निगेटिव आने पर राहत

स्वास्थ्य विभाग की ओर से रेलवे ट्रेनिग सेंटर से 13 लोगों का स्वैब जांच के लिए भेजा गया। वहीं मंगलवार की देर शाम 26 की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद मेडिकल टीम ने राहत की सांस ली। इसके अलावा हॉटस्पॉट एरिया में रहने वाले प्रत्येक लोगों की सुबह-शाम थर्मल स्क्रीनिग कराई जा रही है। साथ ही बुखार, सर्दी व खांसी का लक्षण मिलने पर तत्काल उन्हें शहर के क्वारंटाइन सेंटरों पर लाकर रखा जा रहा है और उनकी जांच के लिए स्वैब वाराणसी के लिए भेजा जा रहा है।

-

छात्र-छात्राओं की थर्मल स्क्रीनिग करने के साथ उनको क्वारंटाइन के लिए घर भेज दिया गया है। साथ ही किसी तरह की दिक्कत होने पर तत्काल नजदीक के सरकारी अस्पतालों पर तैनात स्वास्थ्य कर्मियों से संपर्क करने को कहा गया है।

-डा. जीसी मौर्या, सीएमओ

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस