जासं, गाजीपुर : दैनिक जागरण कार्यालय में रविवार को प्रश्न प्रहर कार्यक्रम में दर्शकों के सवालों से मुखातिब थे अंतर राष्ट्रीय पावर लिफ्टिग खिलाड़ी अमित राय । इनकी प्रतिभा ने न सिर्फ देश में डंका बजाया बल्कि विदेशों मे भी भारत का प्रतिनिधित्व किया है। इसी मेहनत और लगन के बल पर इनको वर्ष 2019 में नेशनल रेफरी बनाया गया जो इस जिले के लिए ही नहीं, बल्कि पूर्वांचल के लिए बड़ी उपलब्धि है। उनका मानना है कि इस गेम में बेहतर भविष्य की अपार संभावनाएं हैं। इस क्षेत्र में भी आकर युवा अपना भविष्य बेहतर बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिए कम से कम उम्र 14 वर्ष होनी चाहिए। इससे अधिक उम्र के लोग ही इस खेल में अपना दमखम आजमा सकते हैं। बताया कि अच्छा पावर लिफ्टर बनने के लिए प्रोटीनयुक्त डाइट का लेना बेहतर होगा। पावर लिफ्टिग के लिए अतिरिक्त डायट की जरूरत नहीं, बल्कि समय से अपने घरों में मिलने वाली प्रोटीनयुक्त डायट लेकर ही इसकी तैयारी की जा सकती है। जानकारी दी कि रेलवे, आईटीबीपी, टीएनटी, सचिवालय आदि सभी सरकारी विभागों में इसकी नौकरी की संभावनाएं हैं। युवा तैयारी कर इसमें बेहतर नौकरी भी प्राप्त सकते हैं। युवा इसकी तैयारी के लिए नेहरू स्टेडियम स्थित ट्रेनिग सेंटर में आकर सुबह-शाम तैयारी कर सकते हैं। बताया कि इस क्षेत्र में बालिकाओं ने भी काफी बेहतर मुकाम पाया है। जिले में कई ऐसी बालिकाएं हैं जो नेशनल स्तर की प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर जिले का नाम रौशन कर चुकी हैं। चूंकि हर गेम में पावर की जरूरत पड़ती है इसलिए पावर लिफ्टिग करने के साथ अन्य खेलों में भी हिस्सा लिया जा सकता। हां अगर नेशनल प्रतियोगिता में हिस्सा लेना है तो सिर्फ और सिर्फ इसी की ओर ध्यान देना होगा। ---

सवाल : पावर लिफ्टर बनना चाहते हैं, क्या करें?

जवाब : इसके लिए कम कम से कम 14 वर्ष की उम्र होनी चाहिए। इस क्षेत्र में आने के लिए सुबह-शाम तीन-तीन घंटे मेहतन करनी होगी। आप नेहरू स्टेडियम में आकर प्रैक्टिस शुरू कर सकते हैं।

सवाल : पावर लिफ्टिग का स्कोप क्या है?

जवाब : इसका काफी स्कोप है। इस गेम को कामनवेल्थ गेम, एशियाड आदि में मान्यता होने के कारण इसके खिलाड़ी काफी अच्छी पोस्ट पर काम कर रहे हैं। इसमें भीड़ कम है इसलिए अन्य खेलों की अपेक्षा मुकाम पाना काफी आसान है।

सवाल : इस गेम में बालिकाओं के लिए कितनी संभावनाएं हैं?

सवाल : इस क्षेत्र में लड़कियों के लिए भी स्कोप है। कई लड़कियों ने इस फील्ड में अहम मुकाम बनाया है। जिले से कई लड़कियां हैं जो नेशनल स्तर की प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेकर आगे की तैयारी कर रहीं हैं।

सवाल : पावरलिफ्टिग के लिए क्या डायट होनी चाहिए।

जवाब : इसके लिए प्रोटीनयुक्त डायट काफी बेहतर होती है। इसमें कार्बोहाइड्रेड युक्त भोजन से परहेज करना चाहिए।

सवाल : इस खेल में भविष्य कितना बेहतर है?

जवाब : मेरी निगरानी में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले कई लड़के ऐसे हैं जिनका भविष्य बेहतर दिख रहा है। मेरा प्रशिक्षु अरविद कुशवाहा केडी सिंह बाबू स्टेडियम मे स्पोर्टस आफिसर पद पर कार्यरत है। इसके अलावा अभिषेक पाल और अनूप सिंह आदि नेशनल प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल प्राप्त कर रहे हैं जिनको विभिन्न कंपनियों के आफर आ रहे हैं।

सवाल : राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में स्थान बनाने के लिए क्या करना होगा?

जवाब : इसके लिए लगन और मेहनत के साथ पूरे दिन लगे रहना होगा। प्रैक्टिस के अलावा अन्य कोई काम नहीं करना होगा तभी जाकर कामयाबी मिल सकती है।

सवाल : पावर लिफ्टर बनना चाहता हूं, क्या करूं?

जवाब : पूरी लगन और मेहनत के साथ प्रशिक्षण करें, इसमें ऊंचा मुकाम आसानी से प्राप्त किया जा सकता है। ---

इन्होंने किए सवाल

सुमित कुमार-मऊपारा, संजीव कुमार सिंह-ददरीघाट, वीरेंद्र यादव-देवकठिया, शमुशुद्दीन-विद्यापारा, राजू यादव-मेदनीपुर, प्रभाकर सिंह-नोनरा, जयप्रकाश यादव-महाराजगंज, विजय कुमार-सकलेनाबाद, राम प्रकाश सिंह, मुहम्मदाबाद,, शमशुल हक, शहबाजकुली।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप