जासं, जमानियां (गाजीपुर) : थाना क्षेत्र के ताजपुर मांझा गांव स्थित निषाद बस्ती में सोमवार की रात आग से 14 रिहायशी झोपड़ियां, उसमें रखे गृहस्थी के सामान जलकर राख हो गए। दमकल कर्मी काफी प्रयास के बाद किसी तरह आग पर काबू पाए। जानकारी होने पर रात में ही एसडीएम रमेश मौर्य पहुंचे और पीड़ित परिवार को मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिए। आग कैसे लगी यह पता नहीं चल सका है।

रात करीब आठ बजे ग्रामीण खाना वगैरह खाकर अपने-अपने कमरों में सो रहे थे। उसी दौरान अचानक मालिक चौधरी के झोपड़ी में आग लग गई। ग्रामीण उसे बुझाने का प्रयास करते इससे पहले ही एक-एक कर देवमुनि, प्रमिला देवी, सुराही, बच्चन चौधरी, भोला, छट्ठू, फलिन्द्र, बहलू, भोरिक चौधरी, भगवान, नरेंद्र, अनिल राम व भरोस चौधरी की झोपड़ी को भी अपने आग ने आगोश ले लिया। आग इतनी विकराल थी कि किसी की हिम्मत पास जाने की नहीं हो रही थी। जब तक दमकल कर्मी मौके पर पहुंचे और आग पर काबू पाए तब तक सारा सामान राख हो गया था। ---

वितरित किया गया राशन

अगलगी में सबकुछ राख होने की जानकारी होने पर एसडीएम मौके पर पहुंचे और मामले मामले की जांच कराए। इसके बाद उन्हें खाना के लिए राशन व पीने के लिए पानी वितरित कराए। पीड़तिों ने बताया कि इस भीषण अग्निकांड में सबकुछ राख हो गया है। उन्हें खाने व रहने के लिए कुछ नहीं बचा है।

Posted By: Jagran