जागरण संवाददाता, देवकली (गाजीपुर) : क्षेत्र के तरांव गांव के मध्य गांगी नदी पर लगभग 1.20 करोड़ रुपये की लागत से पुल बनकर वर्षों से तैयार है। एप्रोच मार्ग न बनने से ग्रामीणों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। उक्त मार्ग से दर्जनों गांवों के लोग नित्य यात्रा करते हैं। इसके बावजूद जनप्रतिनिधि व अधिकारी ध्यान नहीं देते हैं।

देवकली ग्राम में चकबंदी प्रकिया अंतिम चरण में चल रहा है। सड़क का निस्तारण न करने से विवादित सड़क को देवकली के किसान मेड़बंदी कर खेती का कार्य करते हैं। इससे आवागमन बाधित है। सड़क का अस्तित्व भी समाप्त होने के कगार पर है। बावजूद इसके चकबंदी विभाग मूकदर्शक बना हुआ है। इसका खामियाजा उक्त मार्ग से गुजरने वाले यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। तरांव ग्रामसभा की दूरी ब्लाक मुख्यालय से मात्र दो किमी है परंतु सड़क के अभाव में 7.8 किमी घूमकर बासूचक-पहाड़पुर होकर आना-जाना पड़ता है, जो काफी कष्टदायक है। सबसे अधिक परेशानी स्कूल जाने वाले बच्चों को हो रही है। ग्राम प्रधान दिलीप गुप्ता व रामनिवास राम ने बताया कि बारिश होने पर कीचड़ युक्त खेत से होकर गुजरना पड़ता है। चकबंदी के दौरान देवकली गांव में करीब 500 मीटर सड़क को चिन्हित करके विवादित भूमि का निपटारा किया जाना चाहिए, ताकि पुल तक सड़क का निर्माण हो सके।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस