जागरण संवाददाता, गाजीपुर : श्रीमान जिलाधिकारी महोदय, मेरे गांव सौरम में कोरोना महामारी से मरने वालों की संख्या दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। पिछले 15 दिन में अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वालों की संख्या निम्नलिखित है.फलां, फलां, फलां..। जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह को संबोधित यह पत्र लिखा है करंडा ब्लाक स्थित सौरम की ग्राम प्रधान सीमा जायसवाल ने। खास बात यह है कि ग्राम प्रधान ने यह पत्र जिलाधिकारी को देने के बजाय इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिया। मामला संज्ञान में आने के बाद जिलाधिकारी ने आनन-फानन गांव में स्वास्थ्य टीम भेजकर जांच कैंप लगवाया। दो दिन में 152 लोगों की जांच की गई तो इसमें दो किशोरियों समेत चार कोरोना पाजिटिव मिले।

एक के बाद एक लगातार हो रही मौतों से ग्रामीण भयभीत हैं। सीमा जायसवाल पिछले 15 वर्ष से सौरम की प्रधान हैं। उनके पति मनोज कुमार जायसवाल ने बताया कि पिछले 26 अप्रैल से लेकर नौ मई तक गांव के 16 लोगों की एक-एक कर मौत हो गई। नौ मई को तो दो लोगों की मौत हुई। इसमें से अधिकतर लोग बुखार, खांसी व सर्दी-जुकाम से पीड़ित थे। कोई अस्पताल में मरा तो किसी ने अस्पताल पहुंचने से पहले रास्ते में ही दम तोड़ दिया। ग्रामीण प्रति दिन किसी न किसी का अंतिम संस्कार कर रहे हैं।

: सौरम गांव में सोमवार को करंडा चिकित्साधिकारी डा. अभिनव के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच की। 71 लोगों की जांच में कोई पाजिटिव नहीं मिला। मंगलवार को टीम लेकर सौरम गांव पहुंचा। इस दौरान हुई 81 लोगों की जांच में चार कोरोना पाजिटिव मिले। गांव के 80 लोगों को दवा दी गई, जिन्हें बुखार व खांसी आदि की शिकायत थी। जिन 16 लोगों के मरने का कारण ग्रामप्रधान कोरोना बता रहे हैं, उसमें से अधिकतर लोगों की स्वाभाविक मृत्यु हुई है।

- डा. जीसी मौर्या, सीएमओ।

: गांव में पिछले 26 अप्रैल से लगातार मौतें हो रही हैं। इसको लेकर हम लोगों ने डीएम को पत्र लिखा, लेकिन क‌र्फ्यू के चलते उन्हें दे नहीं पाए। ऐसे में इसे इंटरनेट मीडिया पर डाला गया कि किसी भी तरह उनके पास पहुंच जाए और वह कोई उचित कदम उठाएं।

- मनोज कुमार जायसवाल, प्रधान पति, सौरम।

Edited By: Jagran