जागरण संवाददाता, गाजीपुर : जिला प्रशासन को विधानसभा चुनाव में बैरिकेडिग के लिए कोई ठेकेदार नहीं मिल रहा है। बीते 13 जनवरी को टेंडर खोला गया, लेकिन किसी ने दिलचस्पी नहीं दिखाई। पीडब्ल्यूडी ने अब दोबारा टेंडर निकालने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एक एसडीएम सहित लोनिवि के चार अधिकारी इस कार्य के लिए लगाए गए हैं। इतना ही नहीं विभाग से गैर जनपद में खोजबीन चल रही है, लेकिन अभी तक कोई मिला नहीं है।

स्वास्थ्य विभाग को छोड़ लगभग सभी विभाग के अधिकारियों की ड्यूटी इस समय चुनाव में लगाई गई है। पीडब्ल्यूडी को बैरिकेडिग कराने की जिम्मेदारी दी गई है। इसलिए विभाग से निविदा प्रकाशित की गई। 13 जनवरी को जब टेंडर खुला तो किसी ने नहीं डाला। इसको लेकर प्रशासन की चिता बढ़ गई। उच्चाधिकारियों का निर्देश आया कि स्वयं ठेकेदार खोजें। इसके बाद पांच सदस्यीय टीम ने बनारस और जौनपुर के ठेकेदारों से संपर्क किया, लेकिन कोई तैयार नहीं हुआ।

इसके बाद बलिया के ठेकेदार से संपर्क किया, जिसने पिछले चुनाव में बैरिकेडिग का कार्य किया भी था। उसने आकर सब देखा, लेकिन पेमेंट की प्रक्रिया में कुछ तकनीकी कारणों से वह भी तैयार नहीं हुआ। 12 लाख रुपये की निविदा प्रकाशित की गई थी, जो ठेकेदारों को कम लग रहा है। अधिकारियों के सामने अब यह संकट है कि यदि कोई तैयार नहीं होगा तो कैसे कार्य होगा। जिलाधिकारी को इससे अवगत कराते हुए लोनिवि दोबारा टेंडर निकलवा सकता है।

--------------------- बैरिकेडिग के टेंडर को 13 जनवरी को खोला गया था, लेकिन किसी ने नहीं डाला। जिलाधिकारी को मामले से अवगत करा दिया गया है। उनके निर्देशानुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।

- खुर्शीद अहमद, सहायक अभियंता लोनिवि।

Edited By: Jagran