जासं, सैदपुर (गाजीपुर) : सरकार की ओर से तमाम प्रकार की कल्याणकारी योजनाएं संचालित कर किसानों को लाभान्वित किया जा रहा है लेकिन विभागीय अधिकारी मनमानी करते हैं। समय से कार्यालय नहीं आते हैं और न ही किसानों की समस्याओं का निवारण करते हैं। मंगलवार को जागरण टीम सैदपुर स्थित नलकूप खंड द्वितीय कार्यालय पर पहुंची तो इसका पता चला। दोपहर 12 बजे सहायक अभियंता नदारद थे। उनके चेंबर में ताला बंद था। हालांकि बाद में कर्मचारी ने ताला खोल दिया गया लेकिन वे नहीं आए।

जागरण टीम के पहुंचने पर कार्यालय में लिपिक सुषमा यादव व लक्ष्मी कुशवाहा काम में मशगूल थीं। रनर जलालुद्दीन भी मौजूद थे। एसडीसी फ‌र्स्ट सुभाष सिंह यादव किसी काम से जिला मुख्यालय गए थे। जिलेदार मनीष कुमार भारती अपने काम में लगे थे। कार्यालय का भवन जर्जर हो चुका है। चारों तरफ गंदगी का अंबार लगा था। कार्यालय परिसर से दुर्गंध आ रहा था। बातचीत में पता चला कि नलकूप खंड के तहत लगे 129 में आठ नलकूप खराब पड़े हैं। दो में तकनीकी खराबी है। पांच विद्युत गड़बड़ी व एक लो वोल्टेज से नहीं चल पा रहा है। सहायक अभियंता के बारे में आसपास के लोगों ने बताया कि वे कभी-कभी ही आते हैं। कार्यालय के चारों तरफ गंदगी ही गंदगी है। अधिकारियों के न रहने से किसान भी अब यहां नहीं आते हैं। इधर, सहायक अभियंता सूर्यप्रकाश सिंह ने बताया कि जिला मुख्यालय पर उनकी तैनाती है। सैदपुर का भी चार्ज मेरे पास है। वहां भी जाता हूं। आज नहीं आया हूं।

Posted By: Jagran