मुहम्मदाबाद (गाजीपुर) : पूर्व नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक विनोद राय को बैंक बोर्ड ब्यूरो का प्रथम चेयरमैन नियुक्त किये जाने की जानकारी मिलने पर उनके पैतृक गांव परसा सहित पूरे इलाके में खुशी व्याप्त हो गई। परसा गांव के मूल निवासी विनोद राय अपने पिता कैप्टन भोला नाथ राय के साथ ही लखनऊ में रहकर प्रारंभिक शिक्षा व उच्च शिक्षा पूरी किए। दिल्ली विश्वविद्यालय से संबंद्ध ¨हदू कालेज से अर्थशास्त्र विषय से स्नातकोत्तर की डिग्री ली वहीं हार्वर्ड विश्वविद्यालय से लोक प्रशासन में स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त किया। 1972 बैच में केरल कैडर से आइएएस चुने गए। मुख्य रूप से बैं¨कग सचिव व नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक के पदों को सुशोभित कर चुके है। देश के 11 वें नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक रहते हुए इन्होंने टू जी स्पेक्ट्रम घोटाला, कोल घोटाला, कामन वेल्थ जैसे बड़े घोटालों को उजागर करने का कार्य किया था। राष्ट्रपति की ओर से इस वर्ष गणतंत्र दिवस के मौके पर पद्मभूषण से सम्मानित किए थे। गांव के प्रति उनका लगाव हमेशा बना रहा। जब वे बैं¨कग सचिव पद पर थे तो उन्होंने ग्रामीणों की समस्याओं को देखते गांव में बैंक आफ बड़ौदा की शाखा स्थापित कराई। महिलाओं व बच्चों को स्वास्थ्य लाभ दिलाने हेतु गांव में मातृ एवं शिशु कल्याण केंद्र की स्थापना कराई। निजी तौर पर गांव में काफी अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस मैरेज हाल का निर्माण कराया है। गांव के पूर्व ग्राम प्रधान विनोद राय, शिक्षक राजेश राय ¨पटू, राधाकृष्ण राय, पप्पू राय प्रधान, सतीश चंद्र राय गुड्डू, गोवर्धन राय आदि ने बैंक बोर्ड ब्यूरो के चेयरमैन बनाये जाने पर खुशी का इजहार करते हुए कहा कि आज गांव के सपूत ने अपने कार्य के बल पर गांव का नाम देश व विश्व स्तर पर बढ़ाने का कार्य किया है। इससे हम सभी काफी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।