जासं, गाजियाबाद: नंदग्राम से लापता संजय सैनी की हत्या के आरोप में सिहानी गेट पुलिस ने रविवार को तीन युवकों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। शव बरामद नहीं होने मृतक के स्वजनों ने कालोनी की महिलाओं के साथ प्रदर्शन किया। पुलिस और महिलाओं के बीच जमकर नोकझोंक हुई। पुलिस ने रविवार शाम को महिलाओं को समझाकर घर भेजा।

सीओ सिटी सेकेंड आतिश कुमार सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपितों की पहचान बालाजी कम्युनिकेशन के मालिक नीलेश, उसके भाई दिनेश और डेयरी कारोबारी गौरव के रूप में हुई है। मालीवाड़ा निवासी संजय सैनी सात फरवरी की रात साढ़े सात बजे नंदग्राम स्थित बालाजी कम्युनिकेशन से संदिग्ध हालात में लापता हो गए थे। संजय के परिवार में पिता जयप्रकाश सैनी, भाई अमित सैनी, पत्नी रजनी व सात वर्षीय बेटा विराट है। बालाजी कम्युनिकेशन से ही संजय ने पत्नी को आखिरी कॉल कर खाने के बारे में पूछने के बाद आधे घंटे में घर पहुंचने को कहा था। साढ़े आठ बजे उनका मोबाइल स्विच ऑफ हो गया था और आधी रात के बाद डेढ़ बजे फोन ऑन हुआ। लेकिन कॉल रिसीव नहीं हुई। आठ फरवरी की सुबह साढ़े 11 बजे पिता ने गुमशुदगी दर्ज कराई थी। मगर संजय की हत्या सात फरवरी की ही रात नौ बजे से पहले हो चुकी थी। नीलेश, दिनेश व गौरव मिलकर संजय को अपने खाली मकान में ले गए। यहां आरोपितों ने उसके सिर में रॉड मारकर हत्या कर दी और उनसे करीब एक लाख रुपये लूट लिए थे। आरोपित उसके शव को ठिकाने लगाने के लिए घंटा घर से पॉलीथिन खरीदकर लाए थे। तीनों ने शव को पॉलीथिन में रखकर उसके ऊपर से रजाई का कपड़ा लपेट दिया। आरोपितों ने रॉड, संजय का पर्स, अंगूठी व घड़ी भी पॉलीथिन में डॉलकर बाइक के साथ हिडन में डाल दी थी। पुलिस ने बाइक व रॉड को बरामद कर लिया है। महिलाओं की मांग थी कि शव बरामद करने के बाद ही आरोपितों को जेल भेजा जाना चाहिए था। परिवार को अब ही है बेटे के लौटने की आस

पुलिस व एनडीआरएफ की टीमें हिडन में संजय की तलाश कर रही हैं। एनडीआरएफ के मुताबिक शव फूलने पर ऊपर आ जाता है। पॉलीथिन व सर्दी के कारण इसमें समय लग रहा है। वहीं पुलिस की दो टीम दिल्ली में भी शव की तलाश कर रही हैं। हत्या के बाद देर रात डेढ़ बजे आरोपितों ने मोबाइल ऑन कर एक चलते ट्रक में फेंक दिया था। संजय के स्वजनों को अब भी अपने बेटे जिदा रहने की आस है। पत्नी का कहना है कि आरोपित उनके पति को बंधक बनाकर दूसरी जगह रख सकते हैं। कई दिन बाद भी नदी में शव नहीं मिलने पर स्वजनों ने बेटे के कहीं दूसरी जगह जिदा रहने की आशंका जताई है।

पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त रॉड न मृतक का अन्य सामान बरामद कर लिया है। नियम के मुताबिक आरोपितों को जेल भेज दिया गया है। पीसीआर पर लेकर अरोपितों से और पूछताछ की जा सकती है। शव को जल्द बरामद करने के आदेश दे दिए हैं।

- कलानिधि नैथानी, एसएसपी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस