जागरण संवाददाता, खोड़ा : गंगाजल की मांग को लेकर दो दिन से धरने पर बैठे बुजुर्ग समाजसेवी ब्रह्ममेश्वर नाथ मिश्रा से रविवार को एडीएम विनय कुमार मिलने पहुंचे। एसडीएम ने उन्हें गंगाजल की आपूर्ति का आश्वासन देकर धरना खत्म कराया। खोड़ा में 10 लाख से अधिक की आबादी की प्यास बुझाने के लिए तैयार की गई डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) फाइलों में दबी है। भूजल का स्तर लगातार गिर रहा है। लोग सबमर्सिबल लगवाने में असमर्थ है। ऐसे में लाखों लोगों को प्यास बुझाने के लिए दिल्ली या नोएडा से पानी भरकर लाना पड़ता है या बोतलबंद पानी खरीदते हैं। यहां 10 मार्च 2016 को खोड़ा नगर पालिका परिषद का गठन हुआ। इसके बाद लोगों में पानी मिलने की उम्मीद जागी। खोड़ा में 34 वार्ड के 38 सभासद हैं। नगर पालिका बनने के बाद खोड़ा में सड़क और नाली का तो निर्माण कार्य शुरू हो गया लेकिन पेयजल की व्यवस्था अभी तक नहीं हो पाई है। पेयजल की मांग को लेकर खोड़ा रेजिडें्टस एसोसिएशन (केआरए) व समाजसेवी लगातार आंदोलन कर रहे हैं। इस क्रम में दो दिन पहले ब्रह्मेश्वर नाथ पानी की मांग को लेकर नगर पालिका कार्यालय के आगे बेमियादी धरने पर बैठ गए। धरने की जानकारी मिलने एसडीएम विनय कुमार सिंह मौके पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि पानी की टंकी बोर और अन्य कई संसाधनों के लिए जमीन उपलब्ध नहीं है। इस समस्या को वह 25 मई को केंद्रीय मंत्री और सांसद जनरल वीके सिंह और जिलाधिकारी को अवगत कराएंगे। धरने पर संजय सिंह, सुरेश दूबे, रामप्रवेश सिंह, एसपी सिंह परमार, उमेश त्रिपाठी, अश्वनी सिंह आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran